• Hindi News
  • नहर दुरुस्त, छोड़ा पानी

नहर दुरुस्त, छोड़ा पानी

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज -!-बीकानेर
इंदिरा गांधी नहर की वैद्य मघाराम वितरिका को बीती रात तक दुरुस्त कर दिया गया। रात में ही नहर में पानी छोड़ दिया गया। नहर अभियंताओं ने सावधानी बरतते हुए पहले 40 क्यूसेक पानी छोड़ा ताकि नहर ओवरफ्लो नहीं हो। करीब 12 घंटे तक 40 क्यूसेक पानी छोड़ा।
शाम को पानी और बढ़ाया गया। नहर में पानी की क्षमता 110 क्यूसेक है और रविवार की रात इतना ही पानी छोड़ा गया था जिसके कारण सोमवार की अलसुबह नहर 60 फीट तक टूट गई थी। इसके बाद अभियंताओं ने जेसीबी व श्रमिकों के सहारे नहर को दुरुस्त किया। अधिशासी अभियंता महावीर नैण ने बताया कि सोमवार की अलसुबह से लेकर मंगलवार के बीच जो वरीयता पिटी है उसके बदले आगे पानी दिया जाएगा ताकि किसानों के साथ अन्याय नहीं हो। दूसरी ओर कलेक्टर के निर्देश पर नहर टूटने के बाद खेतों में भरे पानी से नुकसान का आकलन भी होगा ताकि यदि किसी किसान का फसल या कोई नुकसान हुआ है तो उन्हें मुआवजा दिया जा सके। नहर टूटने की वजह जानने के लिए मुख्य अभियंता ने एक जांच कमेटी भी गठित की है जो बुधवार से जांच करेगा। जांच रिपोर्ट के बाद यदि अभियंता या श्रमिक का दोष होगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। वैसे नहर टूटने की मुख्य वजह नहर के किनारे खड़े पुराने पेड़ों की जड़ों को माना जा रहा है। अभियंताओं ने कई बार वन विभाग को पत्र लिखकर पेड़ काटने की अनुमति मांगी ताकि नहर को सुरक्षित रखा जाए मगर वन विभाग ने अब तक न तो पेड़ काटने की अनुमति दी और न ही स्वयं पेड़ काटने की पहल कर रहा है। पेड़ों के साथ अब झाडिय़ां भी पनप गई हैं।