• Hindi News
  • बुद्धिमान व्यक्ति वही है, जो यह जानता है कि वह कुछ नहीं जानता

बुद्धिमान व्यक्ति वही है, जो यह जानता है कि वह कुछ नहीं जानता

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जोधपुर रविवार, १३ अप्रैल, २०१४

 टाइम मैनेजमेंट

मिक्की माउस के साथ पोका देती 39 वर्षीय नर्स यूमी सकाई। दरअसल, सकाई टोक्यो स्थित डिज्नीसी में आने वाली 60 करोड़ोवीं मेहमान बनीं। इस मौके को खास बनाने के लिए उन्हें खास तौर पर समानित किया गया। डिज्नी के सभी कैरेक्टर्स ने उनके साथ एंजॉय किया। फोटो सेशन भी हुआ। जापान में बने दोनों डिज्नी थीम पार्क टोक्यो डिज्नीलैंड 15 अप्रैल 1983 और टोक्यो डिज्नीसी 4 सितंबर 2001 को शुरू हुए थे। पिछले साल टोक्यो डिज्नीलैंड की 30वीं वर्षगांठ पर सबसे ज्यादा विजिटर्स पार्क में आए थे।

 एएफपी

 आई एम लकी...

लेसन फ्रॉम ग्रेट थिंकर

ऑ फिस या मीटिंग में अकसर देरी से पहुंचने के कारण परेशान हैं तो आदतों में थोड़ा बदलाव लाएं या इनमें से कुछ तरीके भी अपना सकते हैं।

पढि़ए कुछ टिप्स:

- सबसे पहले इस बात को स्वीकारें कि आप हमेशा देरी से पहुंचते हैं। इसे अपनी कमजोरी समझें और सुधारने में लग जाएं। बुरा महसूस करने की जरूरत नहीं है। इसे सुधारने की तरफ कदम बढ़ाएं।

- कई बार हम ये महसूस नहीं पाते कि समय क्या हो गया है। इसलिए घर के हर कमरे में वॉल क्लॉक लगाएं। मोबाइल वॉच को सही टाइम पर सेट करें।

- आपको कहीं ६.३० बजे पहुंचना है तो यह न सोचें कि ६ बजे तक काम करने के बाद, तैयार होकर वहां पहुंच जाएंगे। इन मामलों में ज्यादा सकारात्मक होने की जरूरत नहीं। थोड़ी रीयलस्टिक एप्रोच अपनाएं।

- खुद को हर काम के लिए पंद्रह मिनट एडवांस में रखें। जैसे ऑफिस ११ बजे पहुंचना है तो खुद को १०.४५ का समय दें।

खुद को हर काम में 15 मिनट एडवांस रखें

टीम को सक्रिय रखने के लिए पूछते रहें सवाल

दिमागी रूप से सचेत रहने से नई चीजों को सक्रियता से ध्यान में लाने में मदद मिलती है। खुद को सचेत रखने के लिए ये तरीके अपनाएं- पहला, टीम को पूछने के लिए प्रोत्साहित करें कि किसी अन्य तरीके के मुकाबले इस तरीके से काम करने के फायदे क्या हैं? ऐसे सवाल करने से नए मौकों की पहचान करने और फायदा उठाने में मदद मिलेगी। दूसरा, अपने विचारों को पूरी तरह ट्रांसपेरेंट रखें। इससे आप दूसरे लोगों के बारे में खराब नहीं सोचेंगे। तीसरा, स्ट्रेस इस बात से आता है कि आप घटनाओं को किस तरह देखते हैं। घटनाएं स्ट्रेस के लिए जिम्मेदार नहीं होती हैं। अगर आप जिम्मेदारियों से लदे महसूस करते हैं तो इस यकीन पर सवाल करें कि आप ही इस टास्क को कर सकते हैं अथवा इसे करने का यही तरीका है।

((स्रोत : माइंडफुलनेस इन द एज ऑफ कॉम्प्लेक्सिटी-एलीसन बीयर्ड))

मजबूत टीम बनाने के लिए मुश्किल फैसले लें

मैनेजर्स के लिए सफल होने का सबसे अच्छा तरीका यही है कि वे अच्छी टीम बनाएं। लेकिन जब कोई नई जिम्मेदारी संभालता है तो वे उन लोगों को हटाने में संकोच करता है, जिनका परफॉर्मेंस कमजोर हो। नया टीम लीडर यह नहीं दिखाना चाहता है कि वह कठोर है और वह उन लोगों का विरोध करने में हिचकता है, जिनके उसकी टीम के साथ संबंध हैं। इन हालात में याद रखें कि आपको अधिकार क्यों दिए गए हैं। आपको उच्च स्तर के परफॉर्मेंस के लिए डिपॉर्टमेंट का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी दी गई है। जितना तेजी से हो सके, मजबूत टीम तैयार करना ही सही तरीका है। अगर कर्मचारियों के बारे में संदेह है तो असाइनमेंट देकर उनकी परीक्षा ले सकते हैं या पार्टनर्स, अधीनस्थों और साथियों से बात करते हुए उनके परफॉर्मेंस का आकलन कर सकते हैं। अब भी आप टीम से संतुष्ट नहीं हैं तो कठोर फैसले लें।

((स्रोत : इफ यू हेव जस्ट टेकन ओवर ए टीम, क्विकली

लेट अंडरपरफॉर्मर्स गो-रॉन एस्केनास))

आत्मविश्वास के लिए छोटी जीत हासिल करें

आत्मविश्वास से सकारात्मक नतीजे आते हैं। यह पर्सनैलिटी से जुड़ा गुण नहीं है। यह उस हालात का नतीजा होता है, जो प्रेरणा जगाता है। लक्ष्यों को पूरा करने के लिए आत्मविश्वास बनाए रखना जरूरी है। इसके लिए इन बातों पर ध्यान दें- पहला, लक्ष्य बड़े हों या पाने में कठिन हों तो लीडर्स यही कहते हैं कि वे बड़े, कठिन, साहसी लक्ष्यों को पसंद करते हैं। लेकिन सिर्फ बड़े लक्ष्य रखने से आत्मविश्वास कमजोर हो सकता है। आत्मविश्वास उन छोटी-छोटी जीत से आता है, जो बार-बार मिलती हैं। एक छोटा कदम बड़े लक्ष्य की ओर ले जाता है। दूसरा, किसी को जिम्मेदार न ठहराएं। किसी के गलत व्यवहार की जिम्मेदारी लेने से आत्मविश्वास बढ़ता है। कठिन हालात में भी एक ही विकल्प रहता है, कैसे इससे निपटें। कंपिनयों के भीतर एक-दूसरे पर आरोप लगाते रहने से हर कोई आत्मविश्वास खोने लगता है। आत्मविश्वास आगे बढऩे की कला है।

((स्रोत : ओवरकम ऑल द बैरियर्स टू

कॉन्फिडेंस-रोजाबेथ मॉस केंटर))

एक सफल मैनेजर अपने काम के साथ-साथ टीम के परफॉर्मेंस के कारण भी जाना जाता है। इसलिए अच्छे मैनेजर के लिए मजबूत और योग्य टीम बनाना बहुत जरूरी है। इसी से जुड़े कुछ कारूरी टिप्स पढि़ए  से...

खुद की बनाई टीम से हैं नाखुश तो लाएं बदलाव

 ङ्क्षजदगी स्वाभाविक बदलावों का नाम है। इन्हें रोके नहीं। इससे तकलीफ ही होगी। सच्चाई को सच्चाई रहने दें। जिंदगी में जो घटनाएं हो रही हैं, उन्हें स्वाभाविक होने दें।

 सेहत सबसे बड़ी संपिा है। संतोष सबसे बड़ा खजाना है। आत्मविश्वास सबसे बड़ा दोस्त है। अस्तित्व में न होना सबसे बड़ा आनंद है।

 मौन रहेंगे तो इससे खुद को ताकतवर बना सकेंगे।

शब्दों में दया भाव रखने से आत्मविश्वास बढ़ता है। विचारों में दया भाव रखने से गंभीरता आती है और देने में दया भाव रखने से प्रेम बढ़ता है।

 सीखने के लिए सिर्फ तीन ही चीजें होती हैंजीने में सरलता, संघर्ष और कठिन हालात में धैर्य और दूसरों के प्रति सहानुभूति। ये तीनों मिलकर जिंदगी का सबसे बड़ा खजाना बताते हैं।

 कठिन काम उस वक्त करो, जब वे आसान हों और महान काम उस समय करो, जब वे छोटे हों। हजार मीलों की यात्रा की शुरुआत एक छोटे कदम से ही होती है।

 अगर आप यह मानने लगते हैं कि सारी चीजें बदलने वाली हैं तो आप उन्हें थामे रखने की कोशिश नहीं करेंगे। अगर आपको मौत का डर नहीं है तो दुनिया में ऐसा कुछ भी नहीं है, जिसे आप हासिल नहीं कर सकते हैं।

 बुद्धिमान व्यक्ति वही है, जो यह जानता है कि वह कुछ नहीं जानता है। जो जानता है, वह बोलता नहीं है। जो बोलता है, वह जानता नहीं है।

 दूसरों को जानना बुद्धिमानी है। खुद को जानना सच्ची बुद्धिमानी है। दूसरों पर राज करना ताकत है। खुद पर राज करना सच्ची ताकत है। अगर आप यह मान लेते हैं कि आपके पास पर्याप्त है तो आप सच्चे धनवान हैं।

प्राचीन चीन के एक प्रसिद्ध दार्शनिक थे। जो ताओ ते चिंग नाम से मशहूर लेखक के रूप में जाने जाते हैं। उनकी विचारधाराओं पर आधारित धर्म को ताओ धर्म कहते हैं।

खुद पर विजय प्राप्त करने से बड़ी जीत कोई नहीं। आपके लिए भी और दूसरों के लिए भी।  लाओ त्सु