• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kota
  • विलुप्त हो रहे गुड़मार को फिर से उगाने का प्रयास
विज्ञापन

विलुप्त हो रहे गुड़मार को फिर से उगाने का प्रयास

Dainik Bhaskar

Mar 15, 2014, 03:06 AM IST

Kota News - भास्कर न्यूज - कोटाकोटा के आसपास मुकंदरा हिल्स और गरडिय़ा महादेव में चंबल किनारे पाया जाने वाला औषधि पौधा गुडमार...

विलुप्त हो रहे गुड़मार को फिर से उगाने का प्रयास
  • comment

कोटा. कोटा के आसपास मुकंदरा हिल्स और गरड़िया महादेव में चंबल किनारे पाया जाने वाला औषधि पौधा गुडमार ((जिम्नेमा सिल्वेस्टर)) रक्त में ग्लूकोज की मात्रा खत्म कर देता है। एंटी-डायबिटिक होने से कई वैद्य इसे जड़ों से उखाड़कर ले जा रहे हैं, जिससे इसकी प्रजाति विलुप्त होने लगी है। कॅरिअर पॉइंट यूनिवर्सिटी की पीएचडी स्कॉलर मोहसिना सैयदी इस पौधे को पुनर्जीवित करने पर रिसर्च कर रही है। वे टिश्यू कल्चर से इस प्रजाति के कई छोटे-छोटे पौधे तैयार करने में जुटी हैं।

रिसर्च गाइड डॉ. कृष्णेंद्र नामा ने बताया कि हिमाचल के ठंडे क्षेत्रों में पाया जाने वाला बेलनुमा यह दुर्लभ पौधा मुकंदरा हिल्स और गरडिया महादेव के आसपास पाया गया है। लेकिन धीरे-धीरे विलुप्त हो रहा है। वे इसे पुनर्जीवित करने का प्रयास कर रहे हैं। गुडमार शरीर में बीटा सेल को प्रमोट करके इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत करता है। इसकी सूखी पत्तियां सुबह शाम उबले पानी में डालकर पीने से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल हो जाता है।

अभेड़ा के पानी से बनाएंगे एंटी-ऑक्सीडेंट

रिसर्च स्कॉलर जितेंद्र मेहता ने बताया कि वे अभेड़ा महल के तालाब से पानी लाकर उसमें 10 तरह के शैवाल विकसित कर रहे हैं। इस तरह के शैवाल से अंतरिक्ष यात्रियों के लिए स्पेस फूड ((स्पाइरुलीना)) बनाया जाता है। चीन और जापान में एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में इसका काफी उपयोग होता है। स्पाइरुलीना कैप्सूल डायबिटीज रोगियों में शुगर कंट्रोल करता है और इम्यून सिस्टम मजबूत करता है। यह कैंसर प्रतिरोधी है और बालों को झडऩे से रोकता है। यह चेहरे पर असमय होने वाली झुर्रियों को भी रोकता है। रिसर्च गाइड डॉ.एल के दाधीच के अनुसार, चंबल किनारे कई उपयोगी वनस्पतियों की कई प्रजातियां लुप्त हो रही हैं, इन्हें टिश्यू कल्चर से पुनर्जीवित करके ही विलुप्त होने से बचा सकते हैं। कोटा में विलुप्त हो रही वनस्पतियों पर शोध कर रहे जितेंद्र मेहता डायबिटीज में काम आने वाली मीठी तुलसी ((स्टेविया रेबिडिनिया)) के सिंथेटिक बीज बनाने में सफल रहे हैं।

पत्तियां ब्लड से खत्म कर देती हैं ग्लूकोज

एंटी डायबिटिक है यह पौधा, टिश्यू कल्चर की मदद से टहनी से फिर पौधे विकसित कर प्लांटेशन करने कर सकते हैं।

X
विलुप्त हो रहे गुड़मार को फिर से उगाने का प्रयास
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें