• Hindi News
  • इंजेक्शन बेचने के मामले में कंपाउंडर व संविदाकर्मी को हटाया

इंजेक्शन बेचने के मामले में कंपाउंडर व संविदाकर्मी को हटाया

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज. कोटा
एमबीएस अस्पताल में नि:शुल्क सरकारी सप्लाई वाले महंगे इंजेक्शन बेचने के मामले में अस्पताल प्रशासन ने नेफ्रोलॉजी वार्ड के कंपाउंडर ओमप्रकाश बैरवा और संविदाकर्मी गौरव को हटा दिया है। इसके अलावा मामले की जांच के लिए दो सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है।
कमेटी को दो दिन में रिपोर्ट अधीक्षक को सौंपनी है। नेफ्रोलॉजी विभाग में आने वाले रोगियों के शरीर में एल्बुमिन की कमी को पूरा करने के लिए एल्बुमिन इंजेक्शन लगाया जाता है। 3 से 5 हजार तक की कीमत वाले इन इंजेक्शनों की सप्लाई सरकार की ओर से नि:शुल्क की जा रही थी, लेकिन पिछले दिनों रोगियों को सरकारी सप्लाई की कमी बताकर हॉस्पिटल में ही यह इंजेक्शन बाजार के मुकाबले कम दामों पर बेचे गए। इस तरह का मामला उजागर होने के बाद अस्पताल प्रशासन ने जांच के आदेश दिए हैं। जांच कमेटी में मेडिसिन विभाग के सहआचार्य डॉ. सीपी.मीणा व नर्सिंग अधीक्षक को शामिल किया गया है।