• Hindi News
  • महिलाओं पर अत्याचार बढ़े, लेकिन झूठे केस भी, अपहरण की वारदातें रुकीं

महिलाओं पर अत्याचार बढ़े, लेकिन झूठे केस भी, अपहरण की वारदातें रुकीं

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज क्च रायपुर मारवाड़
बीते साल थाना क्षेत्र में अपहरण की वारदातों को छोड़कर अन्य अपराध में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। वहीं महिलाओं पर अत्याचार में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की गई है। 2012 में थाना पुलिस ने विभिन्न श्रेणी के 332 मामले दर्ज किए, जिसका आकड़ा 2013 में बढ़कर 434 पहुंच गया। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2012 में थाना क्षेत्र में हत्या के दो मामले दर्ज हुए। वहीं 2013 में यह आंकड़ा बढकर 3 हो गया है। लूट के मामले भी बढ़े। 2012 में क्षेत्र के राजमार्ग पर एक लूट की घटना हुई, जो 2013 में यह बढ़कर चार हो गई है। 2012 में थाना क्षेत्र में दुष्कर्म की एक भी घटना नहीं हुई, लेकिन 2013 में पांच घटनाएं सामने आई। नकबजनी व चोरी की घटनाओं में भी काफी इजाफा दर्ज किया गया। 2012 में क्षेत्र में 14 नकबजनी की घटनाएं हुई, जो 20 हो गई। इनमें से 12 घटनाओं का खुलासा पुलिस ने कर दिया। इनमें स्टील फैक्ट्री में हुई 10 लाख की चोरी का मामला भी शामिल है, जिसका पुलिस ने 24 घंटे में राजफाश किया।



महिलाओं से जुड़े अपराध

2012 में महिलाओं के खिलाफ हुए अपराध के 24 मामले दर्ज हुए थे। इनमें से 11 मामले झूठे पाए गए व 13 मामलों में पुलिस ने चालान पेश किया। वहीं 2013 में 65 मामले दर्ज हुए, इनमें से 26 मामले झूठे पाए गए व 39 मामलों में पुलिस ने चालान पेश किया। वहीं पत्नी की ओर से पति के खिलाफ दर्ज करवाए गए मामलों में दुगुने से भी ज्यादा इजाफा हुआ है। 2012 में 14 विवाहिताओं ने पति के खिलाफ मामले दर्ज करवाए, जो 2013 में 31 मामले थाने में पहुंचे। इनमें से 15 में चालान व 16 मामले झूठे पाए गए। छेड़छाड़ के मामलों में भारी इजाफा दर्ज किया गया। 2012 में एक भी मामला दर्ज नहीं हुआ। वहीं 2013 में 18 मामले दर्ज हुए, इनमें से 13 मामलों में चालान व 5 मामले झूठे पाए गए।

विभिन्न एक्ट में कार्रवाई भी बढ़ी

पुलिस द्वारा विभिन्न एक्ट में की जाने वाली कार्रवाई में भी इजाफा हुआ है। थाना पुलिस ने कई सालों बाद 2013 में एनडीपीएस के तहत 2 कार्रवाई की। वहीं आबकारी अधिनियम के तहत 18 कार्रवाई की गई जिनमें दो शराब से भरे ट्रक शामिल हैं। गुंडा तत्वों पर 21 कार्रवाई हुई व चुनाव के चलते 195 लोगों को पाबंद किया। जबकि पिछले साल 85 को पाबंद किया गया था।

बढ़े हैं अपराध

॥बेरोजगारी और संस्कारों के हनन के चलते अपराधों में बढ़ोतरी हो रही है। पुलिस लगातार कार्रवाई तो करती है, लेकिन समाज के बीच होने वाले अपराध शिक्षा को बढ़ावा देकर रोका जा सकता है।

-अनिल विश्नोई, थानाधिकारी, रायपुर

नकबजनी, चोरी सहित महिलाओं पर अपराधों में इजाफा