• Hindi News
  • निजी स्कूल नहीं बेच सकेंगे टाई बेल्ट और ड्रेस

निजी स्कूल नहीं बेच सकेंगे टाई-बेल्ट और ड्रेस

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज. बारां
जिले में चल रहे निजी स्कूल अब अपने कैंपस में बच्चों को टाई-बेल्ट तथा ड्रेस आदि नहीं बेच सकेंगे तथा अभिभावकों को किसी विशेष दुकान से यह सामग्री खरीदने के लिए भी बाध्य नहीं कर सकेंगे।
राजस्थान निजी शिक्षण संस्थाएं, फीस निर्धारण समिति ने सभी स्कूल संचालकों को इस संबंध में माध्यमिक व प्रारंभिक शिक्षा निदेशक को शपथ-पत्र देने के निर्देश जारी किए हैं।
निर्देशों में बताया गया है कि राजस्थान विद्यालय ((फीस के संग्रहण का विनियमन)) अधिनियम 2013 की धारा 7 की उपधारा ((1)) के तहत अधिनियम की धारा 5 के अंतर्गत गठित राज्य स्तरीय समिति के अनुसार किसी भी पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए निजी स्कूलों द्वारा प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से ली जाने वाली रकम फीस के अंतर्गत आती है। समिति के ध्यान में आया है कि कई निजी स्कूल मनमाने तरीके से अभिभावकों से राशि वसूल रही है।
इसी को ध्यान में रखते हुए इस आशय के आदेश जारी किए गए हैं। आदेशों के बाद कई निजी स्कूल संचालक परेशान हैं। कार्यवाहक डीईओ ((प्रारंभिक)) रामनारायण मीणा ने बताया कि नियमों की अवहेलना करने वाले स्कूलों पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
देना पड़ेगा शपथ पत्र
निजी स्कूल संचालकों को एक माह की अवधि में माध्यमिक व प्रारंभिक शिक्षा निदेशक को संस्था में पुस्तकें व कॉपियां सहित स्टेशनरी नहीं बेचने का शपथ पत्र देना होगा। साथ ही छात्रों को ड्रेसेज भी स्कूल द्वारा निर्धारित दुकान से नहीं खरीदने, स्कूलों में पैटीज, आईसक्रीम, टाई-बेल्ट आदि नहीं बेचने के संबंध में शपथ लेनी होगी। शपथ-पत्र में अग्रिम फीस नहीं लेने का भी दावा करना होगा।
अभिभावकों को मिलेगी राहत
निजी स्कूल संचालकों द्वारा शिक्षण सामग्री के साथ ड्रेसेज आदि स्कूल द्वारा निर्धारित स्थान से खरीदने की बाध्यता खत्म होने से अधिकतर अभिभावकों को राहत मिलेगी तथा वह अपनी मर्जी से बच्चों की शिक्षण सामग्री क्रय कर सकेंगे।