• Hindi News
  • कलेक्ट्रेट के बाहर किसानों का धरना छठे दिन भी जारी

कलेक्ट्रेट के बाहर किसानों का धरना छठे दिन भी जारी

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज क्चनागौर
बिजली के कनेक्शनों को वैध करने, क्षेत्र में नहरी पानी पहुंचाने, खनन पट्टे जारी करने व पाले से खराब हुई फसलों के मुआवजे की मांग को लेकर खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल के नेतृत्व में किसानों का धरना छठे दिन मंगलवार को भी जारी रहा। दिन भर आस पास के क्षेत्रों से आए किसान धरने में पहुंचते रहे। बीकानेर सरपंच संघ अध्यक्ष व केड़ली सरपंच दीपाराम लोल ने धरना स्थल पहुंच कर किसानों को समर्थन दिया।
खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने कहा कि भाजपा के नेता यह कह रहे हैं कि हमने पांच साल में यह बात क्यों नहीं उठाई। जबकि सच्चाई यह है कि 2010 में नहरी पानी खींवसर पहुंचाने की मांग को लेकर कलेक्ट्रेट पर आमरण अनशन किया था तब डेगाना विधायक व जिला प्रमुख बिंदू चौधरी खुद इस अनशन में शामिल हुए थे और तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी भी पहुंचे थे। बेनीवाल ने कहा कि अनशन हमारे नेतृत्व में ही चला व तत्कालीन सरकार ने क्षेत्र में पानी पहुंचाने के लिए 600 करोड़ रुपए की स्वीकृति दी थी। खींवसर विधायक ने कहा कि किसानों की समस्याओं को राजनीति से नहीं जोडऩा चाहिए। सहकारिता मंत्री को धरना स्थल पर आकर किसानों की समस्या सुननी चाहिए थी। बेनीवाल ने कहा कि किसानों के लिए कोई विधायक दो बार निलंबित हुआ है तो वो मैं हूं।
उन्होंने कहा कि सरकार ने किसानों की मांगे नहीं मानी तो इसका परिणाम लोकसभा चुनाव में देखने को मिलेगा। इस दौरान पूर्व सरपंच इंद्रचंद फिड़ौदा, भूंडेल सरपंच धनराज कुकड़ा, शिवसेना बीकानेर संभाग प्रमुख ओम चौधरी, बाबूलाल खीचड, किसान प्रकोष्ठ अध्यक्ष भूरा राम ईनाणिया, शिवसेना जिला प्रमुख नारायण बिडियासर, भजन सिंह, उपसरपंच लुंबाराम सियाग, सुगना राम काकड़, श्रवण बिश्नोई, हेमसिंह राठौड़, सरपंच हिराराम सुथार, एडवोकेट गुलशेर खान सहित कई लोग उपस्थित थे।