• Hindi News
  • खुले में पड़ा बिजली का सामान

खुले में पड़ा बिजली का सामान

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज क्च पोकरण

शहर में मंगलवार को गुरू गोविंदसिंह जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। इस अवसर पर सीमा सुरक्षा बल की वाहिनियों ने दमदमा साहिब गुरुद्वारा में विभिन्न धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। गुरुद्वारों में सतगुरु गोविंदसिंह का जन्मोत्सव हर्षोल्लास से मनाया गया। इस अवसर पर अरदास एवं प्रसाद वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया। रेलवे स्टेशन स्थित गुरुद्वारे में सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालुओं ने शबद कीर्तन, प्रवचन एवं अरदास का आयोजन में भाग लिया। इस अवसर पर बाबा जसपालसिंह, नच्छतरसिंह तथा बीएसएफ के जवानों ने गुरुद्वारे में मत्था टेक कर अमन व चैन की कामना की। श्रद्धालुओं ने गुरुद्वारे में आयोजित लंगर में प्रसाद ग्रहण किया।

विद्यालय में मनाई जयंती

गुरु गोविंदसिंह जयंती के अवसर पर स्थानीय शिवम् शिक्षण संस्थान द्वारा संचालित बीवीएम एकेडमी उच्च प्राथमिक विद्यालय में गुरु गोविंदसिंह के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें याद किया गया। संस्थान के सचिव प्रकाशचंद्र पंचारिया तथा व्यवस्थापक भवानीसिंह शेखावत के सान्निध्य में गुरुगोविंदसिंह के जीवन परिचय पर प्रकाश डाला । उन्होंने बताया कि सिखों के दसवें धर्मगुरू गुरू गोविंदसिंह ने अपने जीवन काल को एक सैनिक के जीवनकाल की तरह जीते हुए मुगल सम्राट औरंगजेब से लोहा लेते हुए अपने परिवार के सभी सदस्यों को इसमें आहुत कर धर्म के लिए कुर्बान कर दिया। अंततोगत्वा उन्होंने अपने प्राणों का बलिदान भी धर्म के नाम पर देकर एक मिसाल कायम की। इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षक विजय सैन के नेतृत्व में छात्रों ने स्थानीय दमदमा साहेब गुरुद्वारा में मत्था टेककर अरदास की । इस अवसर पर गुरुद्वारे के गं्रथी सत्नाम सिंह ने विद्यार्थियों को गुरू गोविंदसिंह के जीवन चरित्र के बारे में जानकारी दी।

गुरु गोंविदसिंह का जन्म दिवस मनाया

रामगढ़ गुरु गोविंदसिंह का 338वां जन्म दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। गुरु गोविंदसिंह के जन्म दिवस के उपलक्ष्य में 79वीं वाहिनी सीमा सुरक्षा बल परिसर में स्थित गुरुद्वारे में पूजा अर्चना व गुरु पाठ का आयोजन किया गया।



नगरपालिका की ओर से करवाए जाने वाले विकास कार्य नगरपालिका क्षेत्र में होने चाहिए। गैरमुमकिन चक, नदी, नाला तथा तालाब की पाल व आगोर पर किसी प्रकार का विकास कार्य करवाना नियमों के विरुद्ध है। लेकिन इन दिनों पालिका खुद इन नियमों को ताक पर रखकर सालमसागर तालाब की पाल पर मैरिज हॉल का निर्माण कार्य करवा रही है। जिस पर स्थानीय लोगों ने विरोध कर मैरिज हॉल के निर्माण कार्य को बंद करवा दिया। ज्ञात रहे कि पालिका ने पूर्व में 25-25 लाख रुपए की लागत से आठ कच्ची बस्तियों में सामुदायिक सभा भवनों का निर्माण कार्य करवाया था। उसमें से वार्ड नंबर 2 में निर्मित सभाभवन पानी के बहाव क्षेत्र में तथा रामदेव कॉलोनी में बना सभाभवन भी नदी के मुहाने पर बनाकर नियमों को ताक पर रखा है।

पालिका खुद नहीं दे रही नियमों का ध्यान



नियम विरुद्ध मैरिज हॉल निर्माण कार्य रुकवाया

भास्कर न्यूज. पोकरण

शहर के सालमसागर तालाब की पाल पर नगरपालिका की ओर से पिछले दिनों लाखों रुपए की लागत से मैरिज हॉल का निर्माण कार्य चल रहा था । यह मैरिज हॉल नियमों के विरुद्ध होने के कारण स्थानीय लोगों ने विरोध कर इसका निर्माण कार्य रुकवा दिया। निर्माण कार्य को रुकवाए एक सप्ताह बीत चुका है दूसरी ओर नगरपालिका की ओर से अभी तक मैरिज हॉल निर्माण के लिए दूसरे स्थान का चयन नहीं किया गया है। ऐसे में शहर में होने वाले विवाह समारोह को संपन्न करवाने के लिए लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है। पालिका द्वारा करवाए जा रहे विकास कार्यों में आए दिन बाधाएं उत्पन्न हो रही है।



हर्षोल्लास के साथ मनाई गुरु गोविंदसिंह जयंती

जैसलमेर डिस्कॉम के पुराने कार्यालय का वेयर हाउस इन दिनों सामग्री की अधिकता के चलते भरा हुआ है। डिस्कॉम को वेयर हाउस के लिए स्थान भी आबंटित किया गया है। जिम्मेदारों की उदासीनता के चलते पिछले दो साल से वहां कार्य प्रारंभ नहीं हो पाया है। डिस्कॉम को वेयर हाउस के लिए सेंट्रल जेल के पास जमीन आबंटित की गई है। वहां भवन नहीं होने के कारण सामान शहर के कार्यालय में रखा हुआ है।



विभिन्न कार्यों के लिए आया सामान

डिस्कॉम कार्यालय का परिसर इन दिनों बिजली के सामान से अटा पड़ा है। जहां देखो वहां ट्रांसफार्मर, व केबिल के ड्रम पड़े दिखाई देते हैं। ये सामान विभिन्न जीएसएस व अन्य विस्तार कार्यों के लिए आया है। लेकिन वेयर हाउस नहीं होने के कारण इसे यहां रखना मजबूरी है। जिले में डिस्कॉम की विभिन्न परियोजनाओं के लिए ये सामग्री राज्य सरकार द्वारा भिजवाई गई है। जिसमें नए जीएसएस में उपयोग करने सहित ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली के विस्तार की योजनाओं के तहत ये सामग्री आई है। सामग्री के आने का क्रम पिछले करीब एक माह से जारी है। प्रतिदिन ट्रकों में सामान आता है। कुछ दिनों में यहां से चला जाता है फिर से ट्रकों में माल आ जाता है। कई बार तो जगह नहीं होने के कारण एक से दो दिनों तक ट्रांसफार्मर, केबिल ड्रम ट्रकों में पड़े रहते हैं।

भास्कर न्यूज क्च जैसलमेर

शहर के डिस्कॉम कार्यालय में इन दिनों लगभग 20 करोड़ रुपए का सामान खुले में पड़ा है। जिम्मेदारों को इसकी बिलकुल भी परवाह नहीं है। करोड़ों रुपए के केबिल ड्रम, ऑयल ड्रम सहित ट्रांसफार्मर कार्यालय खुले चौक में पड़े है। इनकी सुरक्षा के नाम पर मात्र मुख्य द्वार बंद कर इतिश्री की गई है। ऐसे में खुले में पड़ा सामान कभी भी चोरी हो सकता है। इसकी सुरक्षा के नाम पर कुछ भी नहीं किया गया है। बिजली घर का स्टोर सामान से भर जाने के कारण ये करोड़ों रुपए की सामग्री खुले में ही पड़ी है। वहीं जगह नहीं होने के कारण कई दिनों तक सामान ट्रकों में भरा डिस्कॉम ऑफिस के बाहर पर पड़ा रहता है।

गुरुद्वारे में आयोजित हुए कई धार्मिक कार्यक्रम