• Hindi News
  • बेटे को ढुंढऩे बाड़मेर पहुंची ८५ वर्षीय मां

बेटे को ढुंढऩे बाड़मेर पहुंची ८५ वर्षीय मां

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर. गुडामालानी थाना क्षेत्र के लूणवा जागिर गांव की रहने वाली 85 वर्षीय मूलीदेवी पत्नी उकाराम प्रजापत अपने बेटे चौथाराम को ढुंढने हुए 85 किमी. दूर बाड़मेर पहुंच गई। जब इस बुढिय़ा को बाड़मेर में काफी देर तक ढुंढने के बाद भी बेटा नहीं मिला तो इसका दिमाग घूम गया और यह किसी दूसरी गाड़ी में बैठ गई। जब कंटक्टर ने भाड़े के बहाने पूछा तो बुढिय़ा ने गुडामालानी जाने का बोला। इस पर बुढिय़ा को गाड़ी से नीचे उतार दिया गया। जैसलमेर रोड पेट्रोल पंप के पास यह बुढिय़ा इस सर्द रात में कांपती रही। आसपास के संतोष विश्नोई व पपूसिंह ने जब बुढिय़ा को देखा तो एम्बुलेंस 108 को सूचना दी। 108 के पायलट लीलाराम सेजू की मदद से बुढिय़ा को इलाज के लिए बाड़मेर के राजकीय चिकित्सालय लाया गया। जहां उसका उपचार चल रहा है। देर रात तक बुढिय़ा अपने बेटे से नहीं मिल पाई थी। बताया जा रहा है बेटा बाड़मेर शहर के एक जैन व्यापारी राणमल पुत्र बाबूलाल के वहां काम करता है और उसकी तलाश में ही बाड़मेर पहुंच गई।