• Hindi News
  • कलेक्ट्रेट में उलझा भूमि भवन के स्वामित्व का सपना

कलेक्ट्रेट में उलझा भूमि-भवन के स्वामित्व का सपना

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज क्च कवास

तेल उत्पादन क्षेत्र एमपीटी नागाणा, भाडख़ा व ऐश्वर्या ऑयल फिल्ड की सुरक्षा का जिम्मा बॉर्डर होमगार्ड के 120 जवानों के कंधों पर हैं। केयर्न ने जवानों को मूलभूत सुविधा देने का वादा किया, लेकिन उन्हें पर्याप्त सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। केयर्न इंडिया ने राज्य सरकार से इन्हें दो साल के लिए अनुबंध पर ले रखा हैं। साथ ही केयर्न ने अनुबंध पर लेने से पहले राज्य सरकार के साथ केयर्न ने जवानों को सभी सुविधाएं उपलब्ध करवाने की शर्तें मंजूर की थीं। लेकिन 54 कमांडों एक ही मकान में रह रहे हैं। यही नहीं पिछले छह माह से आरओ खराब होने के कारण खारा पानी पी रहे हैं। कमांडों ने इस बारे में कई बार कंपनी अधिकारियों को अवगत भी कराया, लेकिन अभी तक समाधान नहीं हुआ है। मजबूरन इन जवानों ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे व गृहमंत्री को भी पत्र लिखा है। केयर्न इंडिया की सुरक्षा में तैनात 120 कमांडों को जोधपुर में राजस्थान पुलिस ट्रेनिंग सेंटर मेजर जनरल दलवीर सिंह के नेतृत्व में स्पेशल कमांडो कोर्स कर रखा है। इस बारे में केयर्न एनर्जी नागाणा के एसओ कैप्टन दीपक पाटनी ने बताया कि बॉर्डर होम गार्ड के जवानों को कंपनी सभी सुविधाएं दे रही हैं। इस बारे में ज्यादा जानकारी हमारे मीडिया प्रभारी से लीजिए।

॥ कंपनी द्वारा बॉर्डर होम गार्ड के जवानों का राज्य सरकार से अनुबंध सभी शर्तें मंजूर होती हैं। वैसे उनको कोई असुविधाएं नहीं हैं। अगर कुछ असुविधाएं हैं तो उसका पता लगाया जाएगा तथा तुरंत ही समाधान भी किया जाएगा।

एपी गौड़, डीजीएम, केयर्न एनर्जी

: बाड़मेर. मंगला टमर््िानल से सलाया टर्मिनल तक ७०० किमी में बिछाई गई हीटेड पाइप लाइन विश्व में अपनी तरह की अनूठी है।

कच्चे तेल की पाइप लाइन लगातार रहती है गर्म

भास्कर न्यूज क्च बाड़मेर

एक तरफ थार में विकट मौसम की परिस्थितियों में तेल खोज के बाद पाइप लाइन के जरिए कच्चे तेल को गुजरात रिफाइनरी तक पहुंचाना, केयर्न इंडिया के लिए किसी चुनौती से कम नहीं था। केयर्न इंजीनियरों ने 700 किमी. लंबी कच्चे तेल की पाइप लाइन को लगातार गर्म कैसे रखा जाए? इसके लिए प्रयास करके बड़ी चुनौती से गुजरते हुए थार के तेल की धार को गुजरात तक पहुंचाया। केयर्न इंडिया के कॉर्पोरेट अफेयर्स कम्युनिकेशन के हेड डॉ. सुनील भारती का कहना है कि हर काम में तकनीकी नवीनता के साथ कंपनी काम करती है। विश्व की सबसे लंबी लगातार गर्म रहने वाली पाइप लाइन जो राजस्थान के विभिन्न ब्लॉक से कच्चा तेल लेकर दो राज्यों और 8 जिलों से होकर गुजरती है। इस रेगिस्तान में जहां गर्मी में तापमान 50 डिग्री और सर्दी में पारा जीरो तक पहुंच जाता है। पाइप लाइन को इस तरह से तैयार किया गया है कि 700 किमी. तक पाइप लाइन में परिवहन होने वाला कच्चा तेल जम नहीं पाए। तेल को टिक के जरिए लगातार गर्म रखना होता है। केयर्न के प्रयासों से इस कामयाबी में अहम सफलता प्राप्त की।



भास्कर न्यूज क्च बालोतरा

कल्याणपुर पुलिस ने मंगलवार को थाने के आगे नाकाबंदी के दौरान एक ट्रक में पशुआहार के नीचे छिपा रखी करीब २५ लाख रुपए की अवैध शराब पकड़ी। आरोपी ट्रक चालक व खलासी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

बालोतरा डीएसपी अमृत जीनगर ने बताया कि एसपी बाड़मेर सवाईसिंह गोदारा के निर्देशानुसार अवैध शराब के खिलाफ चलाए जा रहे धरपकड़ अभियान के दौरान कार्रवाई की गई। मुखबिर से इत्तला मिलते ही शाम करीब ६.३० बजे थाने के आगे नेशनल हाइवे ११२ पर कल्याणपुर एसएचओ भैंरूसिंह ने मय जाब्ता के नाकाबंदी की। नाकाबंदी के दौरान जोधपुर की तरफ से आ रहे ट्रक नंबर आरजे १४ जीबी ९०२७ को रुकवाकर तलाशी ली गई। तलाशी के दौरान ट्रक में पशुआहार के नीचे भारी मात्रा में अवैध शराब के कार्टन मिले। पुलिस ने ट्रक को कब्जे में लेकर आरोपी मोहरसिंह पुत्र ढक्कड़सिंह सिक्ख जट निवासी लुधियाना ((पंजाब)) व जगदीपसिंह पुत्र सिंदरसिंह निवासी लुधियाना को गिरफ्तार किया।

ट्रक से १०५८ कार्टन बरामद

पुलिस ने ट्रक से १०५८ कार्टन बरामद किए। इनमें रॉयल स्टेज के १३८, टू ब्लेज स्टेज के ५, डीआरडी डिलेक्स के ४८, ब्लैंडर प्राइड के ११, मुगल मोनाक के ९६, पार्टी स्पेशल के ४७१, डर्बी स्पेशल के ९२ व १५२ डायवर्ड फाइव थाउजेंड बीयर के कार्टन बरामद किए। पुलिस ने बताया कि शराब हरियाणा से सांचौर ले जाई जा रही थी। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की।

ग्राम पंचायत को पट्टा देने का अधिकार



500 मीटर की परिधि में आने वाले आबादी क्षेत्र में पट्टा देने का ग्राम पंचायतों को अधिकार है। यह प्रावधान प्रशासन शहरों के संग अभियान 2012 की निर्देशिका पुस्तक में दिया गया है। इसके अनुसार न्यास/प्राधिकरण व नगरपालिकाओं के मास्टर प्लान में दर्शाए गए परिधि क्षेत्र में ग्राम पंचायतों को ग्राम पंचायत मुख्यालय वाले गांव में वर्तमान आबादी क्षेत्र, जैसा कि राजस्व नक्शे में दर्शाया हुआ है, कि 500 मीटर तक की परिधि में तथा पंचायत के अन्य गांवों में आबादी क्षेत्र, जैसा कि राजस्व नक्शे में दर्शाया हुआ है, से 200 मीटर तक की सीमा में आबादी विस्तार एवं अन्य सार्वजनिक सुविधाओं में स्कूल, अस्पताल आदि के लिए आबादी भूमि/हस्तांतरित सिवायचक भूमियों पर राजस्थान पंचायतीराज अधिनियम 1994 के अंतर्गत पट्टे दिए जाने की अधिकारिता है। इसके लिए पंचायतों को जयपुर रीजन में जयपुर जेडीए की ओर से, जोधपुर रीजन में जोधपुर जेडीए तथा अन्य क्षेत्रों में कलेक्टर की ओर से पंचायतों को भूमि उपलब्ध कराई जाती है। नगरीयकरण सीमा/परिधि क्षेत्र में ग्राम पंचायतों के लिए निर्धारित की गई सीमा के भीतर भूमि का आवंटन ग्राम पंचायतों की ओर से ही किया जा सकेगा। नगरीय निकायों को ग्राम पंचायतों के लिए आरक्षित की गई भूमि पर आवंटन का अधिकार नहीं है।

मनोहरसिंह खोखर/कांतिलाल ढेलडिय़ा क्च

बालोतरा/जसोल

राज्य सरकार की ओर से आदेश जारी होने के बाद भी जिला प्रशासन की उदासीनता के चलते जसोल के लोगों को अपने आवासों के पट्टों के तरसना पड़ रहा है। इस उदासीनता के कारण जसोल उप तहसील में 500 मीटर की परिधि में अपने कच्चे-पक्के आशियाने बनाकर रह रहे करीब एक हजार घर के परिवारजनों को अपनी भूमि पर स्वामित्व जताने का अधिकार प्राप्त नहीं हुआ है। इन लोगों ने 30 से 35 वर्ष पूर्व आबादी के इर्द-गिर्द सिवायचक भूमि पर अपने आशियाने बनाए थे। आबादी का विस्तार हुआ तो भूमि पर अपने कागजी पुख्ता सबूत के लिए वाशिंदों ने पट्टों के लिए आवेदन किया, लेकिन जिम्मेदारों ने आबादी क्षेत्र के बाहरी घोषित कर पट्टा देने से मना कर दिया। गुहार राज्य सरकार तक पहुंची तो सरकार ने आदेश जारी कर कलेक्टर को कार्रवाई के लिए लिखा। जिला प्रशासन की संवेदनहीनता से यह सपना महज सपना बनकर ही रह गया है। इस आदेश के बाद ऐसा कोई कदम नहीं उठाया है, जिससे ग्राम पंचायत को यह भूमि उपलब्ध हो सके। फिलहाल यह भूमि ग्राम पंचायत के वार्ड नंबर 16 में है तथा इसमें कई खसरे भी लगते हैं।

यह था राज्य सरकार का आदेश

ग्रामीण विकास एवं पंचायतराज विभाग जयपुर के आदेश पत्र क्रंमाक 15 ((78)) प्र.शं के संग अभियान 2012/2286 दिनांक 18 अक्टूबर, 2012 को आदेश जारी किया था। राज्य सरकार के आदेश में कलेक्टर बाड़मेर को आबादी विस्तार के लिए ((बिला कब्जा)) सिवायचक की 500 मीटर परिधि की भूमि ग्राम पंचायत जसोल को उपलब्ध करवाने के लिए लिखा था।

अमल तो दूर जवाब तक नहीं

ग्राम पंचायत जसोल ने प्रस्ताव पारित कर हल्का पटवारी की ओर से जारी 500 मीटर परिधि की जमीन का नक्शा व खतोनी के कागज तैयार कर तहसीलदार व कलेक्टर बाड़मेर को भेजा था। इसमें आबादी विस्तार के लिए जमीन हस्तांतरण पंचायत को करवाने के लिए लिखा था। विडंबना यह कि उन प्रस्तावों पर अमल तो दूर पत्र का जवाब आज तक नहीं दिया गया।



नई तकनीक को समझने के लिए किसान क्लब सशक्त मंच : रैगर

भास्कर न्यूज क्च चौहटन

किसानों को अपने बारे में सोचने, विचारने तथा नई तकनीक को समझने के लिए किसान क्लब सशक्त मंच है। यह बात सीमावर्ती गांव बच्छवाल व छोटा हाथला में मंगलवार को किसान क्लब के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि नाबार्ड के जिला प्रबंध निदेशक एम.सी रैगर ने कही। उन्होंने कहा कि किसान और बैंकिंग योजना, कृषि योजनाओं के बीच की कड़ी है जिसमें किसान क्लब सक्रिय भूमिका निभा सकता है। रैगर ने कहा कि किसान सरकार और बैंकिंग योजनाओं का जागरूक रहकर फायदा उठाएं। अपनी साख को अच्छा बनाकर योजनाओं का नियमित फायदा उठाएं। रैगर ने कहा कि किसान के घर खुशहाली आने पर पूरा देश मुस्कुराता है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि बच्चों को शिक्षित कर परिवार को खुशहाल बनाएं। श्योर संस्था के परियोजना समन्वयक दौलत शर्मा ने कहा कि जलवायु में हो रहा बदलाव हमारे सामने बड़ी चुनौती है। जलवायु के इस परिवर्तन को समझना जरूरी है। कृषि कार्यों को जलवायु के अनुकूल बनाना होगा। शर्माने रसायनिक खाद बीजों का त्याग कर, देशी एवं जैविक कृषि पर जोर देने की सलाह दी। कार्यक्रम के अध्यक्ष पिथूराम एवं सुजाराम ने समारोह में किसान क्लब के सफल होने की कामना की। हनीफ खान, गुलबाराम, एहदी खां, सवाईसिंह सोढ़ा, दयाराम भील व हरचंदराम ने भी विचार रखे।

मूलभूत सुविधाओं के लिए मुख्यमंत्री को लिखा पत्र