• Hindi News
  • कांग्रेस का गरीब और गरीबी से कोई लेना देना नहीं

कांग्रेस का गरीब और गरीबी से कोई लेना-देना नहीं

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर. नरेंद्र मोदी शनिवार को राजस्थान के बाड़मेर में थे। यहां से जसवंत सिंह बतौर निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। हालांकि, मोदी ने उनके बारे में कोई जिक्र नहीं किया। उन्होंने राहुल गांधी के बयानों पर पलटवार किया। अमृतसर में भाजपा के अरुण जेटली को चुनौती दे रहे कांग्रेस प्रत्याशी अमरिंदर सिंह पर भी निशाना साधा।

जितना कीचड़ उछालोगे उतना कमल खिलेगा -

‘कांग्रेस चुनावी लड़ाई हार चुकी है। अब गंदे तरीके आजमा रही है। मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि इस बार बाड़मेर की मरूभूमि में भी कमल खिलेगा। लेकिन आप मुझ पर जितना कीचड़ उछालोगे, उतना ही ज्यादा कमल खिलेगा। वोटबैंक की राजनीति इस देश को कमजोर बना रही है। बांग्लादेशी राजस्थान आते हैं और भागकर पाकिस्तान चले जाते हैं। हमारी सरकार आई तो इस समस्या से निपटा जाएगा।’

अमङ्क्षरदर सिंह के बैंक खातों की जांच हो -

‘पंजाब के पूर्व मुयमंत्री अमरिन्दर सिंह ने अमृतसर से नामांकन भरा है। उसमें अपने बैंक खातों की जानकारी नहीं दी। चुनाव आयोग से शिकायत की गई है। हमने सुना है कि अमरिंदर के बेटे और उनकी पत्नी के जिनेवा के बैंक में खाते हैं। इसकी जांच होनी चाहिए। कांग्रेस को बताना चाहिए पैसा क्यों छुपाया गया? यदि कांग्रेस ऐसा नहीं करती है तो 16 मई के बाद आने वाली सरकार जनता के सामने सारा सच लाएगी।’

तप करके झूठे इल्जामों से निकला हूं - ‘देश में यह पहला चुनाव है जिसमें साा में बैठे लोग अन्य लोगों के साथ मिलकर मोदी को साा में आने से रोकने के लिए जुटे हैं। षड्यंत्र कर रहे हैं। उन्हें पता है कि मोदी आ गया तो 16 मई के बाद उनकी जगह कहां होगी? मैडम सोनियाजी, आपकी सल्तनत, आईबी, सीबीआई 10 साल ओवरटाइम करती रही मोदी को तबाह करने के लिए। लेकिन क्या मिला उन्हें? क्या मोदी को जेल भेज पाए? मैं तप करके आपके सारे झूठे इल्जामों से निकला हूं।’

बांसवाड़ा में संबोधित करते मोदी।

यह कांग्रेस पार्टी गरीबों के गीत गाती है। उन्हें गरीबों से कोई लेना -देना नहीं है। इनके लिए गरीबी और गरीब की झोपड़ी, नंगे-भूखे बालक, यह सब टूरिज्म के लिए होते हैं। शहजादे भी गरीब के घर मीडिया वालों को लेकर जाते हंै। नंगे-भूखे बच्चों को कंधे पर बिठाते हंै। फोटो निकलवाते हैं। ताजमहल हमें अजूबा लगता है। उन्हें गरीब को देखना अजूबा लगता है। इतना ही नहीं, जाते तो जाते हैं, लेकिन उनका खाना भी हजम कर जाते हैं।



गहलोत सरकार ने दामाद पावर में काम किया - ‘गुजरात में सोलर पावर में काफी काम किया। लेकिन अशोक गहलोत सरकार ने दामाद पावर में ही काम किया। जो जमीन सोलर पावर के लिए थी, वो दामाद पावर की ताकत बन गई। यहां के किसानों की जमीन लूट ली गई। सोलर पावर प्लांट धरे के धरे रह गए, जमीनों के मालिक बन बैठे। आने वाले दिनों में इनका कच्चा चिट्ठा खुलने वाला है।’ 



मोदी लाइव