• Hindi News
  • प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
1.निम्न सभी राजस्थानियों को पद्मश्री सम्मान मिला है। इनमें से तीन पूर्व सांसद हैं। वह चौथा कौन है जो कभी सांसद नहीं रहा?
((क)) डॉ.लक्ष्मी मल्ल सिंघवी
((ख)) रानी लक्ष्मी कुमारी चूंडावत
((ग)) चिरंजी लाल जोशी
((घ)) टी.एन.चतुर्वेदी
2.निम्न में से कौनसी मिसाइल भारत की नहीं है?
((क)) अस्त्र
((ख)) गदर
((ग)) शौर्य
((घ)) प्रहार
3.किर्गिस्तान की मुद्रा है।
((क)) सोम
((ख)) टेंग
((ग)) न्यू किन
((घ)) पौण्ड
4.राजस्थान में मरु मेला ((डेजर्ट फेस्टिवल)) किस शहर में लगता है?
((क)) बाड़मेर
((ख)) बीकानेर
((ग)) जोधपुर
((घ)) जैसलमेर
५.निम्न में से कौनसा शब्द संपूर्ण का पर्यायवाची नहीं है?
((क)) समस्त
((ख)) विगत
((ग)) सारा
((घ)) पूरा
6.निम्न में से किस खिलाड़ी का संबंध फुटबॉल से नहीं है?
((क)) रोनाल्डो
((ख)) पेले
((ग)) मोहम्मद अली
((घ)) डिएगो माराडोना
7.राजस्थान का प्रसिद्ध खाटू श्यामजी का मंदिर किस जिले में है?
((क)) जयपुर
((ख)) सीकर
((ग)) झुंझुनू
((घ)) भरतपुर
8.केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल ((सीआईएसएफ)) की स्थापना कब हुई?
((क)) १९६८ में
((ख)) १९६९ में
((ग)) १९७० में
((घ)) १९७१ में
9.राजस्थान का कौनसा शहर स्वर्ण नगरी के नाम से विख्यात है?
((क)) जोधपुर
((ख)) बीकानेर
((ग)) जैसलमेर
((घ)) जालोर
१०.व्यास सम्मान किस क्षेत्र में दिया जाता है?
((क)) विज्ञान
((ख)) साहित्य
((ग)) चित्रकला
((घ)) राजनीति




रामलीला मैदान स्थित गुरुद्वारे में गुरुनानक जयंती पर अरदास करते हुए तथा श्रीमाधोपुर में गुरुद्वारे में सजा दीवान एवं उपस्थित महिलाएं ।

नगर संवाददाता क्च सीकर

गुरु गोविंदसिंह की जयंती पर मंगलवार को जिलेभर में प्रकाशोत्सव पर्व मनाया गया। इस अवसर पर गुरुद्वारों में विशेष सजावट की गई। ग्रंथी के सानिध्य में दिनभर सुखमनी साहिब के पाठ, शबद कीर्तन व अरदास की हुई। पंजाबी-सिंधी समाज के लोग दिनभर गुरुद्वारों में जाकर गुरु की अरदास में शीश नवाने में लगे रहे।

कार्यक्रम में बच्चों के साथ काफी संख्या में महिलाएं भी शामिल हुई। दोपहर बाद गुरुद्वारों में लंगर का आयोजन हुआ। देर शाम तक लंगर के लिए श्रद्धालुओं का आना-जाना बना रहा। सीकर शहर में मुख्य कार्यक्रम श्री कल्याण गुरुनानक गुरुद्वारा में ग्रंथी अजयसिंह व शेखपुरा स्थित गुरुद्वारा में देवीदास केशवानी की उपस्थिति में हुआ। कार्यक्रमों में समाज अध्यक्ष किशन तुलसयानी, कैलाश थधानी, नंदलाल भूटानी, महेंद्र कायली, गिरधारी रंगवानी, चैलाराम केशवानी, सोमनाथ त्रिहन, वीके खन्ना, अवतार सिंह, धनराज रंगवानी, रामदास व श्रीचंद थधानी आदि आदि ने प्रबंध देखे।

श्रीमाधोपुर. खालसा पंथ के संस्थापक एवं सिक्खों के दसवें गुरु गोविंदसिंह का प्रकाशोत्सव मंगलवार को हर्षोल्लास से मनाया गया। गुरुद्वारे में आयोजित समारोह में रागी सुखदेवसिंह ने गुरु गोविंदसिंह के जीवन पर प्रकाश डालते हुए अहंकार त्याग कर प्रेमपूर्वक जीवन-यापन करने का आह्वान किया। प्रकाशोत्सव के शुभारंभ पर सर्वप्रथम गुरु ग्रंथ साहिब के साप्ताहिक पाठ का समापन किया गया। इसके बाद आसा दी वार तथा शबद- कीर्तन किया गया। कीर्तन में भाई सतनामसिंह एवं साथी सरदार रतनसिंह आदि ने सूरा सो पहचानिए जो लड़े दीन के हेत, पुरजा- पुरजा कट मरे कबहुं न छाड़े खेत..., ए नीले घोड़े वालया, तू सब कुछ देश ते वारया..., मित्तर पियारे नूं..., तंहि प्रकाश हमारा भयो... एवं वाहे गुरु नाम संकीर्तन जैसी एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां देकर संगत को भावविभोर कर दिया। कीर्तन के बाद महाआरती एवं अरदास कर सुख समृद्धि की कामना की गई। दोपहर को गुरुजी का अटूट लंगर बरताया गय। इसमें कस्बे के सभी संप्रदाय के लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया। कार्यक्रम में विधायक झाबरसिंह खर्रा, पालिकाध्यक्ष तनसुख कुमावत, सरदार अर्जुनसिंह वधवा, पंजाबी समाज के अध्यक्ष दयालदास, सरदार अमरजीतसिंह, राजेंद्र वधवा, एडवोकेट रक्षपालदास स्वामी, प्रभुशरण नागपाल, जीतसिंह, महेश पंजाबी, नरेश खुराना, यशपाल सपरा, रमेश वधवा, मनजीतसिंह सहित नगर के अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे।

विधायक खर्रा का अभिनंदन

गुरुद्वारे में आयोजित गुरु गोविंदसिंह प्रकाशोत्सव समारोह में पंजाबी समाज की ओर से नवनिर्वाचित विधायक झाबरसिंह खर्रा का अभिनंदन किया गया। इस दौरान सरदार अर्जुनसिंह, प्रभुशरण नागपाल, सतनामसिंह आदि ने खर्रा को शॉल ओढ़ाकर एवं प्रतीक व तलवार भेंटकर अभिनंदन किया। कार्यक्रम में पालिकाध्यक्ष तनसुख कुमावत सहित अन्य गणमान्य लोगों का भी अभिनंदन किया गया।

लक्ष्मणगढ़. सिख धर्म के दसवें गुरू गोविंदसिंह जी की जयंती मंगलवार को स्थानीय श्री शारदा सदन पुस्तकालय में मनाई गई।पुस्तकालय के ओमप्रकाश भारती ने बताया कि इस अवसर पर गुरू गोविंदसिंहजी के जीवन से जुड़े प्रेरक प्रसंगों को बोर्ड लेखन द्वारा प्रदर्शित किया गया।

बालाजी को लगाया पौषबड़ों का भोग

दांतारामगढ़. कस्बे के मीठी कोठी वाले बालाजी मंदिर प्रांगण में मंगलवार शाम को पौष बड़ा महोत्सव का आयोजन किया गया । इस दौरान सैकडों की संख्या में पधारे नागरिकों ने पौषबड़ा का प्रसाद ग्रहण किया । इस दौरान बालाजी की विशेष झांकी सजाई गई । हनुमानजी का विशेष श्रृंगार किया ।

लोसल.नगर के श्री बालाजी मंदिर मे मंगवार शाम पौषबड़ा महोत्सव आयोजित किया गया इस दौरान बालाजी का श्रंगार कर खीरानंद का भोग लगाया गया एवं कस्बे से आए बड़ी संख्या मे श्रद्धालुओं को प्रसाद वितरित किया गया।

भास्कर गाइड