• Hindi News
  • जालोर सिरोही प्रत्याशियों का नए वोटर्स पर जोर, जीत हार में होगी इनकी अहम भूमिका

जालोर-सिरोही प्रत्याशियों का नए वोटर्स पर जोर, जीत हार में होगी इनकी अहम भूमिका

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज - सिरोही
लोकसभा क्षेत्र में इस बार चुनावी मैदान में युवा मतदाता जीत हार के समीकरण बनाने बिगाडऩे में अहम भूमिका निभाएंगे। ऐसे में हर प्रत्याशी उन्हें अपने खेमे में लाने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं। छह महीने पहले हुए विधानसभा चुनावों में भी प्रत्याशियों के जीत में युवाओं की अहम भूमिका रही थी। इस लिहाज से लोकसभा चुनाव में खड़े प्रत्याशी भी युवाओं को अपनी ओर जोडऩे के प्रयास में लगे हैं। प्रत्याशी इन युवा मतदाताओं तक पहुंचने और उन्हें लुभाने की ज्यादा से ज्यादा कोशिश कर रहे हैं। हालांकि यह अलग बात है कि युवा मतदाताओं से जुड़े मुद्दे प्रचार प्रसार से करीब करीब गायब ही हैं। युवाओं की सबसे बड़ी जरूरत उच्च शिक्षा और रोजगार के अवसर हैं और लोकसभा के आठों विधानसभा क्षेत्रों में युवाओं को इन दोनों ही समस्याओं से दो चार होना पड़ता है। यहां ना तो उच्च शिक्षण संस्थान हैं और ना ही रोजगार के अवसर। यहां तक कि कॉलेज शिक्षा के लिए भी कई युवाओं को बाहर जाना पड़ता है या 12वीं के बाद पढ़ाई छोडऩी पड़ती है। बहरहाल, इस बार इन्हीं युवाओं के हाथ में जीत के अंतर का आंकड़ा है और इन मुद्दों को लेकर युवा जागरूक हैं।
चुनाव में होगी अहम भूमिका : विधानसभा चुनाव के साथ ही अब इन युवाओं की 17 अप्रैल को होने वाले लोकसभा चुनावों में सबसे बड़ी भूमिका होगी क्योंकि उसमें अभी और भी नए नाम जुड़े हैं। इसके अलावा युवाओं की चर्चा अधिकांश: राष्ट्रीय मुद्दों पर होती है। वहीं नरेंद्र मोदी की ओर वे पहले से ही आकर्षित हैं। सिरोही और जालोर को मिलाकर एक लोकसभा क्षेत्र बनता है। ऐसे में इसमें सिरोही के साथ साथ जालोर के भी नए मतदाता जुड़ जाएंगे। पूरे लोकसभा क्षेत्र में इस बार 2 लाख 92 हजार 501 नए मतदाता जुड़े हैं, जो जीत और हार में अहम भूमिका निभाएंगे।