• Hindi News
  • 65 यूनिट रक्तदान कर दिखाया उत्साहजो दूसरों के दर्द बांट ले वह रक्तदान

65 यूनिट रक्तदान कर दिखाया उत्साहजो दूसरों के दर्द बांट ले वह रक्तदान

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज.गुराडिय़ाजोगा
कस्बे में स्थित आर्दश विद्या मंदिर की रजत जयंती और स्वामी विवेकानंद की सार्धशती के उपलक्ष्य में लगाए गए रक्तदान शिविर में युवाओं ने उत्साह से भाग लिया। शिविर में पहल पर 65 यूनिट रक्तदान किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ डग विधायक आरसी सुनारीवाल ने किया। इस अवसर पर पूर्व उप जिला प्रमुख मानसिंह चौहान, पूर्व उप सरपंच विजयसिंह, दुलेसिंह, नारायणसिंह और अन्य नागरिक उपस्थित थे। विधायक ने रक्तदान का महत्व बताते हुए कहा कि आज के आपाधापी के युग मे इंसान में कब बीमारियां घर कर जाती हैं, पता ही नहीं चलता है। संसार में तीन प्रकार के लोग मिलते हैं। पहले दान देने वाले, दूसरे भोग-विलास करने वाले और तीसरे प्रकार के लोग जो न दान देते हैं ओर न ही भोग-विलास करते हैं। दान देने वाले को सारा संसार याद रखता है। रक्तदान ऐसा दान है, जो किसी का जीवन बचा सकता है। रक्तदान शिविर का आयोजन कर गुराडिय़ाजोगा ने मिसाल कायम कि है कि ग्रामीण क्षेत्र में भी रक्तदान के प्रति जागरूकता है।
17 तो किसी ने 12 बार किया रक्तदान
कस्बे के युवकों में रक्तदान के प्रति अनोखा उत्साह देखने को मिला। शिविर में पहुंचे युवाओं में कुछ नए रक्तदाता थे तो कुछ 17 बार तक रक्तदान कर चुके हैं। कस्बे के विनय पाटीदार ने बताया कि उनका यह 17 वीं बार रक्तदान है। जबकि एलआईसी में विकास अधिकारी के पद पर कार्य कर रहे लक्ष्मीकांत पाटीदार के 12वीं बार रक्तदान किया। कमल पाटीदार ने 5, दयाराम पाटीदार ने 5, मुकेश पाटीदार ने 6 बार तो भवानीमंडी से आए रक्तदाता ओमप्रकाश शर्मा ने 7 वीं बार व जितेंद्र पाटीदार ने 4 बार रक्तदान कर मिसाल कायम की है।
इन्होंने किया सहयोग
रक्तदान शिविर में प्रधानाचार्य राजकुमार शर्मा, श्यामलाल व्यास, राधेश्याम पाटीदार, राजेश सुमन के साथ स्कूल के स्टाफ और मंत्री श्यामसुन्दर पाटीदार, दुलेसिंह, कैलाश पाटीदार, डॉक्टर नरेंद्र मोगरा, डॉ. कविता, मिश्रोली से डॉ. नरेश अग्रवाल, गुराडिय़ाजोगा से सुनीता बैरवा और ब्लड बैंक से आए स्टाफ ने शिविर को सफल बनाने के लिए सहयोग किया।
रक्तदान का महत्व बताया
रक्तदान के लिए झालावाड़ से आए डॉ. नरेंद्र मोगरा ने बताया कि आमजन में यह भ्रांति फैली हुई है कि रक्तदान करने से कमजोरी आती है। जबकि इससे रक्तशोधन होता है। रक्तदाता तीन माह बाद फिर से रक्तदान कर सकता है। छ माह या एक साल में एक बार रक्तदान अवश्य करना चाहिए।
आभार जताया
रक्तदान में सहयोग करने के लिए राजकुमार शर्मा ने ग्रामीणों के साथ झालावाड से आए मेडिकल टीम का आभार जताया। शिविर के आयोजन के लिए डॉ. नरेंद्र मोगरा ने स्कूल के स्टाफ, समिति और ग्रामीणों को धन्यवाद ज्ञापित कर ऐसे आयोजन और करने के लिए प्रेरित किया।