• Hindi News
  • 9 करोड़ के पेयजल प्रोजेक्ट का एक साल बाद काम शुरू नहीं

9 करोड़ के पेयजल प्रोजेक्ट का एक साल बाद काम शुरू नहीं

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज. झालावाड़
बकानी कस्बे के लोगों को निर्बाध और पर्याप्त मात्रा में पेयजल उपलब्ध कराने के लिए स्वीकृत साढ़े 9 करोड़ के प्रोजेक्ट का काम एक साल बाद भी शुरू नहीं हो सका है। इस कारण गर्मी के दिनों में लोगों को एक बार फिर पीने के पानी की समस्या से जूझना पड़ेगा। स्थिति यह है कि कस्बे में वर्तमान में भी एकांतरे से नल आ रहे हैं। हालांकि विभाग ने काम में देरी के चलते ठेकेदार को नोटिस थमाए हैं। यदि वे जनवरी माह के अंत तक काम शुरू नहीं करता है तो उसके वर्क आर्डर निरस्त कर दिए जाएंगे।
बकानी कस्बे सहित 10 अन्य गांवों को स्वच्छ पेयजल मुहैया कराने के लिए एक वर्ष पूर्व 9 करोड़ 34 लाख रुपए का प्रोजेक्ट मंजूर किया गया था। ताकि लोगों को पूरो साल निर्बाध पीने का पानी मिल सके। इसके लिए बैरागढ़ से बकानी तक 10 किमी पाइप बिछाकर उसे छापी जलप्रदाय योजना की लाइन से जोड़ा जाना था। इसमें 10, 8, 6 और तीन इंच लाइन डालने के साथ ढाई लाख लीटर की एक टंकी बनाई जानी है। विभाग ने 20 फरवरी 2013 को जोधपुर की दारा कंस्ट्रक्शन कंपनी को इसके कार्यादेश दे दिए थे। उस आदेश के मुताबिक एक दिसंबर 2013 तक काम पूरा किया जाना था। लेकिन कार्यादेश जारी करने से लेकर आज तक इसका काम शुरू नहीं हो सका है।
70 लीटर प्रति व्यक्ति के हिसाब से मिलेगा पानी-
साढ़े 9 करोड़ की इस प्रोजेक्ट के पूरा होने पर बकानी के लोगों को 70 लीटर प्रतिदिन और इससे जुडऩे वाले 10 अन्य गांव के लोगों को 40 लीटर प्रतिव्यक्ति के हिसाब से पीने का पानी मिलना है। लेकिन इसमें देरी के चलते लोगों गर्मी के दिनों में एक बार पीने के पानी की समस्या से जूझना पड़ सकता है।
इन गावों को मिलेगा फायदा
इस प्रोजेक्ट से बैरागढ़ से बकानी के बीच स्थित खोली, चार डूंगरी, गरवाड़ा, मोलक्या कलां, देवरी, गणेशपुरा, कुशलपुरा, दांतिया, रामपुरिया और थोबडिय़ा गांव के लोगों को फायदा मिलेगा।
वर्तमान में एकांतरे आ रहे हैं नल
बकानी। कस्बे में इन दिनों एकांतरे से नल आ रहे हैं। इसमें 45 लीटर प्रति व्यक्ति के हिसाब से पानी दिया जा रहा है। जलदाय विभाग वर्तमान कालीसिंध पर स्थित मोतीपुरा और भूमाड़ा से कस्बे में आपूर्ति कर रहा है। इसके लिए व्यवस्था बनाने के लिए ट्यूबवेल लगवा रखी हैं। गर्मी के दिनों के दिनों में स्थिति बिगड़ जाती है। दो-तीन छोड़कर नलों में पानी आता है।