• Hindi News
  • प्रभु राम का गुणगान ही भवसागर से पार उतारता है: स्वामी लक्षानंद

प्रभु राम का गुणगान ही भवसागर से पार उतारता है: स्वामी लक्षानंद

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज. बिलाड़ा
कस्बे के जेतीवास रोड स्थित गणेश अपरोध आश्रम में चल रही पांच दिवसीय श्रीरामकथा सत्संग के दौरान शनिवार को प्रवचन करते हुए स्वामी लक्षानंद महाराज ने कहा कि मनुष्य को प्रभु का गुणगान अवश्य करना चाहिए। चाहे वो कितना ही व्यस्त क्यों नहीं हो। अपनी व्यस्ततम जीवन से क्षण भर का समय निकाल कर प्रभु का नाम जपना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस भवसागर रूपी समुद्र को पार करने के लिए राम नाम रूपी नौका की जरूरत पड़ती है। मनुष्यों का चौरासी के बंधनों की मुक्ति के लिए सत्संग व प्रभु का स्मरण आवश्यक है। उन्होंने कहा प्रभु की भक्ति का फल मनुष्य को अवश्य मिलती है। प्रभु की भक्ति कभी भी व्यर्थ नहीं जाती है। इस अवसर पर आयोजित पंच कुंडीय यज्ञ में शनिवार को 20 यजमानों ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ आहुति प्रदान की।