• Hindi News
  • कैटलफीड की आड़ में ले जा रहे थे 80 लाख की शराब

कैटलफीड की आड़ में ले जा रहे थे 80 लाख की शराब

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रावतसर. पुलिस ने शराब माफिया के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए शुक्रवार रात को अंग्रेजी शराब से लदा हुआ ट्रोला पकड़ा है। 1350 पेटी अंग्रेजी शराब जब्त कर दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के अनुसार जब्त शराब की कीमत करीब 80 लाख रुपए है। आरोपी कैटलफीड की आड़ में शराब की तस्करी करने के प्रयास में थे।

जानकारी के मुताबिक थाना प्रभारी अनिलकुमार मीणा शुक्रवार रात को नोहर रोड स्थित जीवननगर के पास नाका लगाकर वाहनों की जांच कर रहे थे। इसी दौरान नोहर की ओर से आ रहे ट्रोले को रोककर पूछताछ की गई। ट्रक चालक गुरविंद्र सिंह पुत्र जोगा सिंह ने ट्रोले में कैटलफीड लदा होने की बात कही। उसने बिल्टी भी दिखाई जिसमें ट्राले में लदा माल हरियाणा के करनाल जिले के निसिंग से गुजरात के मेहसाणा में कैटलफीड प्लांट में ले जाना दर्शा रखा था।

पुलिसकर्मियों ने ट्रोले की तलाशी ली तो उसमें कैटलफीड की जगह अंग्रेजी शराब के कार्टन लदे हुए मिले। पुलिस ने तुरंत गुरविंद्र सिंह व उसके साथ बैठे जगजीत सिंह पुत्र सुखवंत सिंह को गिरफ्तार कर ट्रोला जब्त कर लिया। दोनों आरोपी पंजाब के फिरोजपुर जिले के मल्लावाला के रहने वाले हैं। गुरविंद्र सिंह ट्रक का ड्राइवर होने के साथ-साथ उसका मालिक भी है। आरोपियों ने प्रांरभिक पूछताछ में शराब हरियाणा से गुजरात ले जाना बताया है।

दो माह में तीन बड़ी कार्रवाई

पुलिस के अनुसार ट्रोले से 1350 पेटी अंग्रेजी शराब बरामद हुई है। इसमें 672 पेटियों में अंग्रेजी शराब की बोतलें व 678 पेटियों में बीयर की बोतलें मिली हंै। गौरतलब है कि रावतसर पुलिस ने फरवरी में भी शराब माफिया के खिलाफ दो बड़ी कार्रवाई की थी। 11 फरवरी को हनुमानगढ़ मेगा हाइवे पर केडब्ल्यूडी पुलिया के पास से एक ट्रोले में लदी हुई 1630 पेटी व 16 फरवरी को इसी जगह से ट्रक में लदी हुई 1280 पेटी शराब बरामद की थी। इन दोनों मामलों में भी दो-दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था।

मास्टरमाइंड तक पहुंचेगी पुलिस

शराब माफिया के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। अभी तक काफी मात्रा में अवैध शराब पकड़ी जा चुकी है। शराब कहां जा रही थी और किसने भेजी थी। दोनों को पकडऩे के लिए पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। इस मामले में मास्टरमाइंड तक पुलिस पहुंचेगी।- शरत कविराज, एसपी हनुमानगढ़.