• Hindi News
  • एलपीजी गैस से दुर्घटना हुई तो मिलेगा क्लेम

एलपीजी गैस से दुर्घटना हुई तो मिलेगा क्लेम

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
विमल बंसल क्च करौली
एलपीजी गैस उपभोक्ताओं के लिए खुशखबरी है। अब गैस से किसी भी प्रकार की दुर्घटना होने से गैस कंपनी की ओर से उपभोक्ताओं को क्लेम मिलेगा। उपभोक्ताओं को एलपीजी गैस से दुर्घटना होने के बाद जल्द से जल्द संबंधित गैस वितरक, तेल कंपनी, निकटतम पुलिस थाने व अग्निशमन विभाग को सूचित करना होगा। इसके बाद संबंधित कंपनी की ओर से एलपीजी से घटित दुर्घटना पर दावा क्षतिपूर्ति की कार्रवाई की जाएगी।
कंपनी की कार्रवाई पूरी हो जाने के बाद दुर्घटना से पीडि़त उपभोक्ता का क्लेम मिलेगा। क्लेम उसे ही मिलेगा जो रजिस्टर्ड एलपीजी उपभोक्ता है। जानकारी के अनुसार जिलेभर में लगभग 1 लाख घरेलू गैस के उपभोक्ता है। इसके अलावा भी जिलेभर के बाजारों में खाद्य सामग्री बेचने वाले व मिठाइयों की दुकान चलाने वाले उपभोक्ताओं द्वारा भी एलपीजी गैस का उपयोग किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार पूर्व में एलपीजी से दुर्घटना होने या सिलेंडर फटने से घर को होने वाले नुकसान का वहन स्वयं उपभोक्ता को ही करना होता था। कंपनी की पॉलिसी लागू होने से उपभोक्ताओं को फायदा मिलेगा।
गोदाम से सिलेंडर लाते समय रास्ते में दुर्घटना होने पर भी मिलेगा क्लेम : पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी के तहत उपभोक्ताओं द्वारा सिलेंडर गोदाम से वहन कर रास्ते में एलपीजी से दुर्घटना होने पर भी क्लेम किया जा सकता है। इसके अलावा रजिस्टर्ड उपभोक्ता के रजिस्टर्ड निवास पर एलपीजी से घटित होने वाली किसी भी दुर्घटना के लिए मान्य होगा। वहीं बहुमंजिला इमारतों में लगे हुए एलपीजी रेटीकुलेटेड सिस्टम ((समेकित आपूर्ति तंत्र)) से घटित दुर्घटना और रसोई घर में गैस सिलेंडर लगाते या हटाते समय होने वाली अग्नि दुर्घटना पर भी पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी होगी।
इन कंपनियों ने लागू की पॉलिसी
जिलेभर में विभिन्न कंपनियों द्वारा गैस सिलेंडर वितरण किए जाते हैं। सरकारी तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड, भारत पैट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड, एवं हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड द्वारा एलपीजी उपभोक्ताओं को लिए बीमा लागू की है। इस पॉलिसी को पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी के नाम से लागू किया है। यह पॉलिसी सभी रजिस्टर्ड एलपीजी उपभोक्ताओं के लिए है। पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी प्राप्त करने के लिए रजिस्टर्ड उपभोक्ताओं को क्लेम के लिए कंपनी को दस्तावेज प्रस्तुत करने होंगे। कंपनी की ओर से पूरी कार्रवाई करने के बाद ही उपभोक्ताओं के दुर्घटना का क्लेम तय किया जाएगा। क्लेम करने के साथ उपभोक्ताओं को व्यक्ति की मौत होने पर मृत्यु प्रमाण पत्र या पोस्टमार्टम रिपोर्ट या कोरोनर्स रिपोर्ट या इंवेस्ट रिपोर्ट इसमें से जो लागू हो प्रस्तुत करनी होगी। इसके अलावा भी पुलिस रिपोर्ट और मेडिकल बिल व चिकित्सा खर्चे का बिल भी प्रस्तुत करना होगा।
॥पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। अगर सरकारी तेल कंपनियों द्वारा कोई पॉलिसी लागू की है तो उसकी जानकारी कर पॉलिसी से रजिस्टर्ड उपभोक्ताओं को लाभांवित किया जाएगा।
सुनीता मीणा, प्रवर्तक निरीक्षक, रसद विभाग, करौली