• Hindi News
  • डेयरी में 3 करोड़ की मशीन की फिटिंग का कार्य शुरू

डेयरी में 3 करोड़ की मशीन की फिटिंग का कार्य शुरू

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यालय संवाददाता क्च हिंडौन सिटी
यहां करौली मार्ग तेली की पंसेरी के पास सरस दूध डेयरी प्लांट में दो साल से अनुपयोगी पड़ी 3 करोड़ लागत की मशीन के फिटिंग का कार्य शुरू कर दिया गया है। दो साल से धूल फांक रही इन मशीनों को चालू नहीं किए जाने पर दैनिक भास्कर ने प्रमुखता से समाचार प्रकाशित किया था। दैनिक भास्कर में समाचार प्रकाशित होने के बाद डेयरी प्रबंधन के अधिकारी हरकत में आए और मंगलवार से 3 करोड़ कीमत की मशीनों के फिटिंग का कार्य शुरू करवा दिया गया है।
राज्य सरकार ने 5 करोड़ की लागत से करौली मार्ग तेली के पंसेरी के पास सरस दूध डेयरी प्लांट मंजूर किया था। वर्ष 2010 में डेयरी प्लांट का निर्माण कार्य शुरू हो गया, जो वर्ष 2013 के जनवरी माह में पूरी तरह से शुरू होनी थी, लेकिन विभागीय उदासीनता के चलते यह प्लांट समय पर शुरू नहीं हो सका। हालांकि 1 नवंबर 2011 को छोटे रूप में 35 दुग्ध समितियों से दूध लेकर प्रतिदिन 4 हजार लीटर दूध जयपुर सरस डेयरी को भिजवाया जा रहा है। इस प्लांट पर विभाग की ओर से किर्लोस्कर व एचएमटी कंपनी ने तीन करोड़ कीमत की दूध पैकिंग, घी पैकिंग, बटर बनाने की मशीन, घी बनाने की मशीन, पावडर बनाने की स्टीम भट्टी मशीन, चिलिंग प्लांट मशीन आदि मशीनरी करीब सालभर पूर्व ही उपलब्ध करा दी थी, लेकिन फिटिंग के अभाव में इन मशीनों का लाभ नहीं मिल पा रहा है। दैनिक भास्कर ने 3 करोड़ कीमत की मशीनों के फिटिंग नहीं कराए जाने का समाचार प्रमुखता से प्रकाशित किया था। इस पर डेयरी प्रबंधन के अधिकारी हरकत में आए और मशीनों की फिटिंग का कार्य शुरू करवा दिया गया है। डेयरी के व्यवस्थापक ओमप्रकाश ने बताया कि डेयरी प्रबंधन के आरसीडीएफ के प्रतिनिधि राकेश कुमार की निगरानी में मुंबई की कंपनी के इंजीनियरों ने मशीनों की फिटिंग का कार्य शुरू कर दिया है। मशीन का फिटिंग का कार्य पूरा होने पर दूध से घी, छाछ, लस्सी, दही बनाकर पैकिंग कर खुले बाजार में बिक्री के लिए तैयार की जा सकेंगी।



खबर का असर, प्लांट में दो साल से अनुपयोगी पड़ी थी मशीनरी