• Hindi News
  • ‘अहंकार से नष्ट होता है विवेक’

‘अहंकार से नष्ट होता है विवेक’

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज क्च लांबिया
स्थानीय गांव में चल रही भागवत कथा में संत आत्माराम महाराज ने कहा कि विद्या, तप, धन व उच्च कुल में जन्म लेने वाले व्यक्ति में भी यदि अहंकार का समावेश हो जाए तो उसकी विवेक शक्ति नष्ट हो जाती है। वाणी पर संयम व मधुरता बहुत जरूरी है, क्योंकि कोई भी मनुष्य वाणी से शत्रु को मित्र व मित्र को शत्रु बना सकता है। यहां तक कि रोगी को भी निरोगी बना सकता है। संत ने मंगलवार को नरकों का वर्णन कर धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष के बारे में श्रद्धालुओं को वृतांत सुनाए। कथा सुनने स्थानीय गांव सहित आसपास के गांवों से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं।