• Hindi News
  • गाड़ी में खाना और सफर में पूरी होती है नींद

गाड़ी में खाना और सफर में पूरी होती है नींद

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

सीकर. चुनाव मैदान में उतरे प्रत्याशियों की दिनचर्या पूरी तरह बदल चुकी है। प्रत्याशी औसतन 14 से 16 घंटे चुनावी मैदान में बीता रहे हैं। सुबह पांच बजे उठने के बाद ज्यादातर प्रत्याशी सात से आठ बजे के बीच प्रचार के लिए निकल जाते हैं। दिनभर जनसंपर्क और सभाओं के बाद रात 11 से एक बजे के बीच घर पहुंच रहे हैं। व्यस्त दिनचर्या के बीच गाड़ी में खाना और नाश्ता तथा सफर में नींद पूरी कर रहे हैं।

सुमेधानंद: आश्रम से तैयार होता है टिफिन, गाड़ी में करते हैं भोजन

भाजपा प्रत्याशी स्वामी सुमेधानंद ने सुबह पांच बजे जागने के बाद व्यायाम, प्राणायाम सहित अन्य काम किए। छह से सात बजे तक आश्रम पहुंचे लोगों से मुलाकात के बाद नाश्ता लेकर आठ बजे प्रचार के लिए रवाना हुए। दिनभर जनसंपर्क और सभा के बीच जब फुर्सत मिली तो आश्रम से तैयार टिफिन गाड़ी में ही खाया। दोपहर में फल लिए। शुक्रवार को लक्ष्मणगढ़ क्षेत्र के 26 गांवों में सभाएं की। रात करीब 12 बजे आश्रम पहुंचे।

पीएस जाट: स्थानीय नेताओं को साथ लेकर शुरू करते हैं प्रचार

कांग्रेस प्रत्याशी पीएस जाट रोज पांच बजे उठे। छह बजे तक तैयार हुए। नाश्ता करने के बाद पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से बातचीत की। आठ बजे श्रीमाधोपुर इलाके के लिए रवाना हो गए। तय स्थान से विधानसभा इलाके के नेताओं को साथ लेकर आगे बढ़े। कस्बे में ढाई दर्जन गांवों में सभाएं व जनसंपर्क किया। दोपहर में वक्त मिला, वहीं भोजन किया। रात करीब 11 बजे घर पहुंचने के बाद अगले दिन की योजना पर चर्चा की।

सुभाष महरिया: एक्सरसाइज के साथ कार्यकर्ताओं से चुनावों पर चर्चा

निर्दलीय प्रत्याशी सुभाष महरिया चार घंटे की नींद के बाद शुक्रवार को सुबह पांच बजे उठे। हर दिन की तरह व्यायाम के साथ ही कार्यकर्ताओं से चुनावों पर चर्चा की। पूजा पाठ के बाद 6.30 बजे नाश्ता किया। इसके बाद बाहर से आए लोगों से मिले। 7.30 बजे लक्ष्मणगढ़ क्षेत्र में जनसंपर्क के लिए रवाना हुए। दिनभर सभा और जनसंपर्क के बाद रात करीब 12 बजे सीकर पहुंचते हैं। विधानसभा क्षेत्र से घर के लिए रवाना होने के बाद सफर में नींद भी पूर करते हैं। इधर, सीकर शहर में सैकड़ों महरिया समर्थकों ने बाइक रैली निकाली।

अमराराम: गांव-गांव सभा के बाद रात को शहर में भी जनसंपर्क

माकपा प्रत्याशी अमरा राम सुबह 5.30 बजे जागते हैं। नियमित काम पूरे करने के बाद 7.30 बजे प्रचार के लिए रवाना हुएं। वे अपने साथ घर से खाने का टिफिन भी लेते हैं। खंडेला विधानसभा पहुंचने पर स्थानीय नेताओं का काफिला भी साथ होता है। फिर एक के बाद एक गांव में सभा। दोपहर में गाड़ी में ही भोजन किया। दिनभर 32 गांवों में सभा कर 10 बजे सीकर शहर की कॉलोनियों में जनसंपर्क। इसके बाद करीब 12 बजे घर पहुंचे।

पूनिया: चुनावी मैदान में भी आर्मी कैंप की तरह कर रहे हैं काम

आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी मेजर डा. सुरेंद्र पूनिया आर्मी केप की तरह सुबह करीब पांच बजने से पहले बिस्तर छोड़ देते हैं। दौड़, एक्सरसाइज व नियमित क्रिया के बाद नाश्ता कर छह बजे घर से निकले। कार्यालय पहुंचकर कार्यकर्ताओं के साथ प्रचार के लिए निकले। प्रचार के दौरान कार्यकर्ता के घर या रास्ते में भोजन करते हैं और फिर प्रचार में जुट जाते हैं। पूनिया रात को करीब 11 बजे बाद घर पहुंचते हैं।