• Hindi News
  • विपक्ष का नेता: अरुण पर असंतोष, नेगी पर ना

विपक्ष का नेता: अरुण पर असंतोष, नेगी पर ना

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मंजीत सहदेव-!-चंडीगढ़
नगर निगम में भाजपा व अकाली दल के कई पार्षदों को ही विपक्ष के नेता अरुण सूद और हीरा नेगी का कामकाज रास नहीं आ रहा। सूद निगम में विपक्ष के नेता हैं, जबकि हीरा नेगी दूसरे नंबर पर हैं। बीते रोज असंतुष्ट पार्षदों ने एक मीटिंग की और अपनी राय भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह और चंडीगढ़ भाजपा के अध्यक्ष संजय टंडन को बाकायदा एक पत्र लिखकर जाहिर कर दी है।
इस मीटिंग में अरुण सूद, हीरा नेगी व आशा जायसवाल को नहीं बुलाया गया था। भाजपा और अकाली दल के बाकी सभी पार्षद इस मीटिंग में मौजूद थे। मीटिंग में यह भी स्पष्ट हो गया कि अकाली दल के पार्षद नगर निगम में विपक्ष के नेता व दूसरे स्थान के नेता का पद चाह रहे हैं। दूसरी तरफ यह भी जाहिर हो गया कि भाजपा के कुछ पार्षद निगम में विपक्ष के नेता अरुण सूद के रवैये को लेकर खफा हैं।
नॉमिनेटेड काउंसलर भी खफा हैं: सतिंदर सिंह
भाजपा पार्षद सतिंदर सिंह का कहना है कि भाजपा व अकाली दल के पार्षदों ने संयुक्त तौर पर यह मांग की है कि अरुण सूद को हटाया जाए। हाल ही में मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर व डिप्टी मेयर के चुनाव के दौरान नॉमिनेटेड काउंसलर्स ने भी सूद के रवैये पर सवाल खड़े किए थे। अकाली दल के पार्षद भी अपना पार्षद विपक्ष के नेता के तौर पर चाहते हैं। इस बारे में राजनाथ सिंह और संजय टंडन को अवगत करा दिया गया है।
रोटेशन का सुझाव भाजपा का: हरजिंदर कौर
अकाली दल की पार्षद हरजिंदर कौर का कहना है कि भाजपा के पार्षदों ने सुझाव दिया था कि विपक्ष के नेता की रोटेशन होनी चाहिए। इसका हमने समर्थन किया है। विपक्ष के मुख्य नेता का पद अकाली पार्षद को न दिया जा सके, तो दूसरे स्थान के नेता का पद तो मिले। इस संबंध में हमने अपनी बात चंडीगढ़ भाजपा के अध्यक्ष संजय टंडन के सामने भी रखी है। उन्होंने इससे इंकार किया कि सूद के रवैये पर कोई एतराज है।