पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • 183 Million New MOU With The Closing Of Vidarbha Advantage

183 करोड़ के नए एमओयू के साथ एडवांटेज विदर्भ का समापन

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नागपुर. 183 करोड़ रुपए के दो नए एमओयू के साथ मंगलवार को एडवांटेज विदर्भ का समापन हुआ। एमओयू का आंकड़ा 18,644 तक पहुंच गया है। सरकार की ओर से आश्वस्त किया गया है कि एमओयू को जल्द ही अमल में लाया जाएगा।

निर्भय टेक्सटाइल अमरावती ने 125 करोड़ व क्रीटेक टेक्सटाइल अमरावती ने 58.10 करोड़ के एमओयू पर हस्ताक्षर किए। दोनों इकाइयों ने एमआईडीसी अमरावती में उद्योग लगाने की तैयारी की है।

निर्भय टेक्सटाइल के संचालक प्रकाश मिश्रा व क्रीटेक की अधिकारी गौरी चटर्जी को एमआईडीसी के सीईओ भूषण गगरानी ने हस्ताक्षर पत्र सौंपे। दो दिन तक जारी रही परिषद में विभिन्न विषयों पर जानेमाने उद्यमियों ने विचार व्यक्त किए।

सरकार की ओर से विभिन्न प्रतिनिधियों ने बताया कि विदर्भ में औद्योगिक विकास की संभावना है। विदर्भ व देश के अन्य क्षेत्रों के उद्यमियों ने भी यहां की स्थिति को विकासोन्मुख बताया। परिषद में कई सुझाव भी रखे गए। उद्योग मंत्री नारायण राणे ने परिषद का समापन करते हुए कहा कि दो दिन में जो विचारों का जो आदान-प्रदान हुआ, उससे विदर्भ के विकास को गति मिलेगी।

परिषद में उद्योग समूहों के 480 प्रतिनिधि शामिल हुए। देश के जानेमाने 60 उद्यमी भी आए। विदर्भ से 125 जनप्रतिनिधियों ने उपस्थिति दर्ज कराई। विकास जैन ने परिषद के सफल समापन के लिए सभी का आभार माना।

पटेल को मिली थी डमी पत्रिका :

पालकमंत्री शिवाजीराव मोघे के अनुसार, एडवांटेज विदर्भ के संबंध में केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री प्रफुल पटेल को गलती से डमी पत्रिका दी गई थी। पत्रिका को लेकर भ्रम हुआ। पटेल की नाराजगी सामने आई। लेकिन पटेल ने परिषद को पूरा सहयोग दिया। पहले उन्होंने अपने सहयोगियों को परिषद की तैयारी में योगदान के लिए भेजा। उद्घाटन कार्यक्रम में वे स्वयं उपस्थित हुए।

लंबित योजनाओं पर कमेटी बनाएं :

मोघे- पालकमंत्री शिवाजीराव मोघे ने कहा कि विदर्भ में उद्योग संबंधी लंबित योजनाओं के लिए समिति बनाई जानी चाहिए। योजना को साकार करने का समय निर्धारित होना चाहिए। औद्योगिक संभावनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि विदर्भ, महाराष्ट्र का ही नहीं बल्कि देश का सबसे बड़ा औद्योगिक क्षेत्र बन सकता है। एडवांटेज विदर्भ को अपेक्षा से अधिक रिस्पांस मिला है।

पीछे नहीं रहेगा विदर्भ :

अहिर- सामाजिक न्याय राज्यमंत्री सचिन अहिर ने कहा कि विदर्भ किसी भी मामले में राज्य के अन्य हिस्सों की तुलना में पीछे नहीं रहेगा। विदर्भ विकास के बगैर महाराष्ट्र का विकास नहीं होगा। विदर्भ के संसाधनों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यहां आदर्श विकास हो सकता है।

समापन अवसर पर पुनवर्सन व राहत कार्य मंत्री पतंगराव कदम, अन्न आपूर्ति मंत्री अनिल देशमुख, विधायक देवेंद्र फडणवीस, आशीष जैस्वाल, यशोमति ठाकुर, दादाराव केचे, उद्योग विभाग के प्रधान सचिव मनुकुमार श्रीवास्तव, एमआईडीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी भूषण गगरानी, वीआईए के अध्यक्ष प्रफुल दोशी मंच पर उपस्थित थे।

नहीं आए अजित :

परिषद के समापन कार्यक्रम में उपमुख्यमंत्री अजित पवार शामिल नहीं हो पाए। कार्यक्रम पत्रिका के अनुसार, समापन कार्यक्रम की अध्यक्षता उपमुख्यमंत्री करनेवाले थे। राकांपा नेता व राज्यमंत्री सचिन अहिर ने कहा कि किसी कारणवश उपमुख्यमंत्री कार्यक्रम में नहीं आ पाए, लेकिन उन्होंने शुभकामना दी है।

परिषद के आयोजन को लेकर आघाड़ी में सांमजस्य की आवश्यकता महसूस की जाती रही है। इसके पूर्व भी परिषद आयोजन की तैयारी को लेकर हुई बैठकों में राकांपा के बड़े नेता उपस्थित रहे हैं। कहा जाता रहा है कि परिषद के माध्यम से कांग्रेस चुनावी फायदा लेने का प्रयास कर रही है।

परिषद के लिए समय पूर्व जानबूझकर पत्रिका नहीं छापने व राकांपा नेताओं की उपेक्षा करने के आरोप लगते रहे हैं। उपमुख्यमंत्री पवार शुरू से ही इस परिषद से दूर नजर आए।