आतंकी का निशाना बने जिंदा बचे आरक्षक की जुबानी, उस रात की खौफनाक कहानी / आतंकी का निशाना बने जिंदा बचे आरक्षक की जुबानी, उस रात की खौफनाक कहानी

मुंबई हमले में शहीद हुए तीन नामों को तो आपने सुना ही होगा। वह नाम थे हेमंत करकरे, विजय सालस्कर, अशोक काम्टे।

Nov 26, 2013, 12:42 AM IST

मुंबई। मुंबई हमले में शहीद हुए तीन नामों को तो आपने सुना ही होगा। वह नाम थे हेमंत करकरे, विजय सालस्कर, अशोक काम्टे। जिस गाड़ी में इन तीनों अधिकारियों को आतंकवादियों ने अपनी गोलियों का निशाना बनाया था, उस गाड़ी में एक और भी व्यक्ति था जो की हमले में मारे गए तीनों जांबाज अधिकारियों की मौत का गवाह बना है। उस गाड़ी में मौजूद लोगों में जिंदा बचा यही एक मात्र शख्स पुलिस में आरक्षक अरूण जाधव है।

टोयोटा क्वालिस गाड़ी में सवार थे अधिकारी...

आतंकवादियों द्वारा छीने गए पुलिस वाहन में सवार रहे और घायल होने के बाद जीवित बचे कांस्टेबल ने उस खौफनाक मंजर की दास्तान सुनाई, जिसमें उस रात एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे और दो अन्य शीर्ष पुलिस अधिकारी छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (CST) से भाग रहे दो आतंकवादियों में से एक की गोलियों से टोयोटा क्वालिस के भीतर निशाना बने।

आगे की स्लाइड्स पर पढ़िए आतंकियों का निशाना बने जिंदा आरक्षक की जुबानी उस रात की खौफनाक कहानी...

नोट: आज 26/11 मुंबई हमले की पांचवी वर्षगांठ है... Dainikbhaskar.com 26 नवंबर 2008 की उस खौफनाक रात को याद कर रहा है जब आतंकियों ने समुद्री रास्ते से मुंबई में घुसकर खेला था खूनी खेल...

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना