पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हाईकोर्ट ने कहा- खुद को कानून से ऊपर न समझे पुलिस

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मुंबई. बॉम्बे हाईकोर्ट ने फिल्म अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी की पत्नी का अवैध रूप से काॅल डेटा रिकाॅर्ड (सीडीआर) रखने के आरोप में गिरफ्तार अधिवक्ता रिजवान सिद्दीकी को तुरंत रिहा करने का आदेश दिया है। हाईकोर्ट ने अधिवक्ता की पत्नी की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई के बाद यह निर्देश दिया।

 

- बुधवार को न्यायमूर्ति एससी धर्माधिकारी व न्यायमूर्ति प्रकाश नाईक की खंडपीठ ने कहा कि ठाणे पुलिस खुद को कानून से बड़ा न समझे और कानून को अपने हाथ में न ले। इस मामले में पुलिस न सिर्फ लापरवाह दिखी बल्कि उसने गिरफ्तारी को लेकर कानूनी प्रक्रिया का पालन भी नहीं किया है। इसलिए हम गृह विभाग व ठाणे पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से अपेक्षा करते हैं कि वे इस मामले की जांच करेंगे और यदि प्रकरण में पुलिसकर्मियों की लापरवाही सामने आती है तो उनके खिलाफ उचित दंडात्मक कार्रवाई भी करेंगे।

-  इससे पहले सरकारी वकील ने कहा कि पुलिस ने गिरफ्तारी को लेकर आरोपी वकील को नोटिस जारी किया था, लेकिन आरोपी ने नोटिस स्वीकार करने से इनकार कर दिया था। 


फिलहाल उसे मैजिस्ट्रेट कोर्ट ने 23 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेजा है। यदि आरोपी को छोड़ा जाता है तो हमें कोई आपत्ति नहीं है। इस पर खंडपीठ ने कहा कि मैजिस्ट्रेक कोर्ट का आदेश हाईकोर्ट पर लागू नहीं होता। 
पुलिस इस मामले में निर्धारित कानूनी प्रक्रिया का पालन करने में विफल रही है। इसलिए प्रथम दृष्टया गिरफ्तारी अवैध नजर आ रही है। लिहाजा आरोपी वकील को तुरंत रिहा किया जाए। 

 

 

 

खबरें और भी हैं...