शिवाजी महाराज स्मारक के विरोध में उतरे मछुआरे, भूमिपूजन का करेंगे विरोध / शिवाजी महाराज स्मारक के विरोध में उतरे मछुआरे, भूमिपूजन का करेंगे विरोध

मछुआरों से जुड़े संगठन ने ऐलान किया है कि वे प्रस्तावित जगह पर किसी भी कीमत पर स्मारक नहीं बनने देंगे।

Bhaskar News

Dec 21, 2016, 07:38 AM IST
प्रपोस्ड छत्रपति शिवाजी महाराज स्मारक। प्रपोस्ड छत्रपति शिवाजी महाराज स्मारक।
मुंबई. एक तरफ राज्य सरकार छत्रपति शिवाजी महाराज स्मारक के भूमिपूजन की जोरशोर से तैयारी कर रही है दूसरी ओर मछुआरे भी विरोध में उतर आएं हैं। मछुआरों से जुड़े संगठन ने ऐलान किया है कि वे प्रस्तावित जगह पर किसी भी कीमत पर स्मारक नहीं बनने देंगे। सरकार कितनी भी कोशिश कर ले उसे अपना फैसला वापस लेना पड़ेगा। वहीं सत्तापक्ष का दावा है कि कुछ लोग राजनीतिक मकसद से विरोध कर रहे हैं।
- अखिल महाराष्ट्र मच्छीमार कृति समिति के अध्यक्ष दामोदर तांडेल ने कहा कि यह 80 हजार मछुआरों की रोजीरोटी से जुड़ा प्रश्न है।
- अगर प्रस्तावित जगह पर स्मारक बना तो आसपास के इलाके की मछलियां खत्म हो जाएंगी और मछुआरे भूखे मर जाएंगे।
- उन्होंने कहा कि सरकार मछुआरों के विरोध की अनदेखी कर आगे नहीं बढ़ सकती। हम चाहते हैं कि स्मारक बैंडस्टैंड या रेसकोर्स में बनाया जाए।
- हम इसके लिए पूरी मदद करेंगे लेकिन जिस तरह प्रधानमंत्री चोरी छिपे स्मारक का भूमिपूजन करना चाहते हैं हम उसे सफल नहीं होने देंगे।
- तांडेल ने कहा कि शनिवार से पहले हम नाव से लेकर बस्ती तक हर जगह काले झंडे लगा देंगे जिससे सरकार को यह एहसास हो सके कि मछुआरे क्या चाहते हैं।

राजनीतिक वजहों से विरोध: मेटे

- वहीं विधायक और छत्रपति शिवाजी महाराज स्मारक समिति के अध्यक्ष विधायक विनायक मेटे ने कहा कि उन्होंने मछुआरों से बात की है।
- उनकी शंकाओं का निराकरण किया गया है। कुछ लोग मुख्यमंत्री से मिलकर आश्वासन चाहते हैं मुख्यमंत्री भी मंगलवार रात मछुआरों से मिलेंगे।
- उन्होंने यह भी दावा किया कि तांडेल के विरोध की वजह राजनीतिक है। सरकार जोरशोर से भूमिपूजन कार्यक्रम को सफल बनाने की कोशिश में जुटी हुई है।
- मीटिंगों का दौर चल रहा है। शिवाजी महाराज के सभी किलों से ईंट, पत्थर और उन नदियों का पानी मंगाया जा रहा है जिनके पानी से शिवाजी महाराज का राज्याभिषेक किया गया था।
- स्मारक के लिए मरीन ड्राइव से तीन किलोमीटर दूर स्थित एक चट्टान को चुना गया है, लेकिन मछुआरों का कहना है कि यहां निर्माणकार्य शुरू होगा और बड़ीं नावों की आवाजाही शुरू होगी तो इलाके की मछलियां भाग जाएंगी।
- वहीं माना जा रहा है कि मुंबई महानगर पालिका चुनाव से पहले राजनीतिक लाभ के लिए सत्ताधारी भाजपा स्मारक के निर्माण कार्य के लिए भूमिपूजन करना चाहती है।
- इसीलिए भूमिपूजन आचार संहिता लागू होने से पहले कराया जा रहा है।
- मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने कहा कि पहले बिहार चुनाव से पहले बाबा साहब आंबेडकर के स्मारक का भूमिपूजन किया गया और अब बीएमसी चुनाव से पहले छत्रपति शिवाजी महाराज स्मारक का भूमिपूजन हो रहा है।
- यह भाजपा की चुनावी फायदा हासिल करने की रणनीति का हिस्सा है। वहीं भाजपा विधायक राजपुरोहित का कहना है कि इस मामले में राजनीति ठीक नहीं है।
X
प्रपोस्ड छत्रपति शिवाजी महाराज स्मारक।प्रपोस्ड छत्रपति शिवाजी महाराज स्मारक।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना