• Hindi News
  • Gujrat, Narendra Modi, Ashok Chavan, Maharashtra, Latest News

'मोदी ने नहीं वहां के लोगों ने किया गुजरात का विकास'

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मुंबई.मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का गुजरात का विकास करने का दावा खोखला है, क्योंकि गुजराती भाषियों ने वहां का विकास किया। गुजराती भाषी लोग चाहे मुंबई आये हों या फिर न्यूयॉर्क गये हों। हर जगह उन्होंने विकास करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने इस तर्क के साथ मोदी को गुजरात के विकास का श्रेय देने से इनकार किया है।
सह्याद्री अतिथि गृह में उन्होंने चुनिंदा पत्रकारों के साथ विभिन्न मुद्दों पर करीब एक घंटे तक अनौपचारिक चर्चा की। इस दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री मोदी का जिक्र छेड़े जाने पर उन्होंने अपनी व्यक्तिगत प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘मोदी पीएम पद के लिए उतावले हो गये हैं। जबकि भाजपा में लालकृष्ण आडवाणी और सुषमा स्वराज जैसे कई सीनियर लीडर हैं।’ चव्हाण ने मोदी को केंद्र की यूपीए सरकार के लिए चुनौती मानने से भी इनकार किया। उन्होंने कहा कि केंद्र में एक बार फिर यूपीए की सरकार आयेगी क्योंकि भाजपा में प्रधानमंत्री पद को लिए भीतर ही भीतर घमासान है और जिन मुद्दों पर मोदी या भाजपा के नेता केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश कर रहे हैं। खुद उन मसलों का वे जनता को कोई समाधानपूर्ण विकल्प नहीं दे पा रहे हैं।
मुझे दिल्ली भेजे जाने की जिन्हें चर्चा करनी है करे :-
महाराष्ट्र में हर एक-दो महीने में पृथ्वीराज चव्हाण को मुख्यमंत्री पद से हटाकर दिल्ली भेजे जाने की चर्चा उठती है। इसके पीछे की राजनीति के बारे में पूछे जाने पर चव्हाण ने कहा, ‘मैं जब से मुख्यमंत्री बना हूं। इस प्रकार की चर्चा सुनते आया हूं। जिन्हें मुझे दिल्ली भेजे जाने की चर्चा करनी है वे करें। क्योंकि मुझे मुख्यमंत्री बनाने या फिर दिल्ली भेजे जाने का निर्णय मैं खुद नहीं लेता बल्कि पार्टी अध्यक्ष को इस संबंध में निर्णय लेने का अधिकार है।’ बातचीत के माहौल को गंभीर न बनने देने के लिए जब मुख्यमंत्री के नाते चव्हाण के निर्णय लेने के तरीके पर सवाल पूछे गये, तो उन्होंने कहा, ‘मैं कोई भी निर्णय जल्दबाजी में नहीं लेता हूं। हर फैसला बहुत ही सोचसमझ कर लेता हूं।’
मैं विदर्भ राज्य के गठन के विरोध में नहीं :-
विदर्भ के कांग्रेस के कुछ एक सांसदों, विधायकों और वरिष्ठ नेताओं द्वारा मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण को अलग विदर्भ राज्य के गठन के विरोध में होने का आरोप लगाया जा रहा है। स्वतंत्र विदर्भ राज्य के मसले पर मुख्यमंत्री के नाते चव्हाण की भूमिका पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘मैं विदर्भ राज्य के विरोध में नहीं हूं। मैं जो भी लोगों के लिए अच्छी बात होगी करने को तैयार हूं। कोई भी मुझे बताये कि यह काम नेताओं के नहीं बल्कि आम आदमी के हित में है मैं करने को तैयार हूं।’ इसके साथ ही चव्हाण ने कहा कि वे स्वतंत्र विदर्भ राज्य के गठन के मुद्दे पर प्रस्ताव आने पर चर्चा को तैयार हैं।