पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Kendraekr Have Not Beed The Proper Help: Malik

केंद्रेकर के कारण बीड़ को नहीं मिली समुचित सहायता : मलिक

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मुंबई. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी बीड़ के जिलाधिकारी सुनील केंद्रेकर के खिलाफ खुलकर सामने आ गई है। प्रदेश राकांपा के प्रवक्ता विधायक नवाब मलिक ने कहा कि केंद्रकर ने सूखे को लेकर सही रिपोर्ट राज्य सरकार के पास नहीं भेजी। इस वजह से बीड़ को समुचित सरकारी सहायता नहीं मिल पाई है।

गुरुवार को पार्टी के साप्ताहिक संवाददाता सम्मेलन में मलिक ने कहा कि केंद्रकर ने सूखे की स्थिति को लेकर राज्य सरकार को सही रिपोर्ट नहीं भेजी।

इसकी वजह से वहां के लोगों को पर्याप्त सहायता मिलने में देरी हुई। उन्होंने कहा कि पड़ोस के जिले अहमदनगर में सूखे की स्थिति बीड़ जैसी खराब नहीं है।

वहां सूखा राहत पर ज्यादा काम हुआ है। इसकी वजह से बीड़ के पशुओं को अहमदनगर के चारा डिपो में लाना पड़ा है। मलिक ने कहा कि अधिकारी काम नहीं करेंगे तो जनप्रतिनिधि शिकायत करेंगे। राकांपा विधायक ने इस बात पर भी आपत्ति जताई कि सूखे की भयंकर स्थिति के बावजूद केंद्रेकर विदेश गए।

शराबबंदी के लिए आंदोलन :राष्ट्रवादी युवक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष उमेश पाटील ने कहा कि सूखाग्रस्त क्षेत्रों में लोगों को पीने के लिए पानी नहीं मिल रहा है लेकिन शराब व बीयर आसानी से उपलब्ध है। सूखाग्रस्त क्षेत्रों में शराब बंदी के लिए हम आंदोलन चलाएंगे।

यह पूछे जाने पर कि राज्य में सरकार आपकी है तो सरकार शराब की बिक्री पर खुद पाबंदी क्यों नहीं लगाती? राकांपा प्रवक्ता मलिक ने कहा कि हमारे कार्यकर्ता इसको लेकर सामाजिक जागरुकता पैदा करना चाहते हैं।

छात्रों को नकद सहायता

मलिक ने बताया कि सूखा ग्रस्त क्षेत्र के छात्रों को आर्थिक मदद पहुंचाने की शुरुआत अगले सप्ताह से होगी। हमारे पास 40 हजार छात्रों की सूची तैयार है। यह संख्या और बढ़ सकती है। उन्होंने बताया कि हम कॉलेजों को धन उपलब्ध कराएंगे। वहां से छात्रों को यह नकद राशि दी जाएगी।

सूखे पर समीक्षा बैठक 7 को

राज्य में सूखे की स्थिति की समीक्षा के लिए आगामी 7 मार्च को दोपहर 2 बजे पार्टी की महत्वपूर्ण बैठक बुलाई गई है। प्रदेश राकांपा अध्यक्ष मधुकरराव पिचड़ की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में उपमुख्यमंत्री अजित पवार सहित पार्टी के सभी मंत्री, विधायक, जिलाध्यक्ष और सभी संगठनों के पदाधिकारी मौजूद रहेंगे।