शिवसेना के आरोप पर महापौर दटके ने कहा, दस्तावेज दें, जांच हम कराएंगे

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नागपुर. मनपा में भ्रष्टाचार के आरोपों पर शिवसेना को चुनौती देते हुए महापौर प्रवीण दटके ने कहा कि वह भ्रष्टाचार का दस्तावेज दें, भाजपा जांच कराएगी। महापौर ने कहा कि मुंबई में शिवसेना ने विकास मामले में भले ही पारदर्शिता नहीं रखी हो, लेकिन नागपुर में भाजपा ने पूरी पारदर्शिता रखी है।
 
शिवसेना आरोपों के प्रमाण देगी, तो उन्हें आयुक्त को सौंपकर जांच कराई जाएगी। सोमवार को शिवसेना ने मुंबई में पत्रकार वार्ता में नागपुर मनपा में भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं। भाजपा पदाधिकारियों के रिश्तेदारों को लाभ पहुंचाने का भी आरोप लगाया गया है। शिवसेना के अारोपों के जवाब में महापौर दटके ने पत्रकार वार्ता ली। 
 
...तब क्यों नहीं किया विरोध
 
जलापूर्ति योजना में भ्रष्टाचार के आरोप पर महापौर ने कहा कि 24 बाय 7 योजना को मनपा सभागृह में जब मंजूरी दी गई, तब उपमहापौर शिवसेना के ही थे। स्थाई समिति में भी शिवसेना के सदस्य थे, तब शिवसेना ने कोई विरोध नहीं किया। इस योजना में किसी पदाधिकारी के रिश्तेदार हों, तो उनके नाम दें, कार्रवाई की जाएगी। सीमेंट रोड के मामले पर उन्होंने कहा कि साढ़े चार हजार करोड़ की लागत का आंकड़ा ही निराधार है। 
 
शिवसेना को जवाब देना चाहिए कि यह आंकड़ा कहां से आया। सीमेंट रोड के पहले चरण में 100 करोड़ व दूसरे चरण 329 करोड़ की लागत है। तीसरे चरण की प्रक्रिया चल रही है। मुंबई के डंपिंग यार्ड की तुलना में नागपुर का डंपिंग यार्ड ठीक है। पेयजल आपूर्ति के लिए 4 रुपए के बजाय 22 रुपए प्रति यूनिट वसूलने का आरोप भी निराधार है। 
 
गुणवत्ता की होती है जांच
 
 
महापौर ने कहा कि सड़क निर्माण कार्य में गुणवत्ता जांच के िलए मनपा ने जियोटिक कंपनी को नियुक्त किया है। सीमेंट, गिट्टी व रेत की जांच कंपनी करती है। आवश्यक होने पर निर्माण कार्य निविदा रद्द करने का काम भी किया गया है। मनपा प्रशासन ने जिस निविदा को मंजूरी दी थी, उसे स्थाई समिति ने रद्द किया।
 
पत्रकार वार्ता में विधायक अनिल सोले,  सुधाकर देशमुख, विकास कुंभारे, गिरीश व्यास, मिलिंद माने, परिणय फुके, शहर महामंत्री संदीप जोशी, भोजराज डूंबे, चंदन गोस्वामी, जमाल सिद्दीकी, धर्मपाल मेश्राम उपस्थित थे।
 
खबरें और भी हैं...