पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Hungry Students Forced To Sleep In The Dark, Warning Strike From Wednesday

छात्राएं भूखे पेट अंधेरे में सोने को मजबूर, अंब अनशन की चेतावनी

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कन्हान/कामठी. कन्हान के रामनगर लोईया ले-आऊट स्थित लड़कियों के लिए चलाई जा रही आश्रमशाला में छात्राओं के साथ हो रहे दुव्र्यवहार को लेकर जिप सदस्य शिवकुमार यादव, पंस सदस्य द्वय राजेश यादव, साबिर सिद्दीकी ने अधिकारियों से जांच की मांग की है। बुधवार तक अधिकारियों द्वारा कार्रवाई नहीं किए जाने पर दोपहर 1 बजे से अनशन की चेतावनी दी है।

बता दें कि कन्हान के लोईया ले-आऊट में ग्रामविकास कन्या वसतिगृह के नाम से पिछले 12 वर्षों महिला आश्रमशाला का संचालन किया जा रहा है। मंगलवार को आश्रमशाला की कुछ लड़कियां अपनी समस्याएं लेकर पंस सदस्य राजेश यादव के पास पहुंची।

शाम को जिप सदस्य शिवकुमार यादव, साबिर सिद्दीकी, राजेश यादव एवं कुछ पत्रकारों ने आश्रमशाला का निरीक्षण कर वहां रह रहीं छात्राओं से बातचीत की। छात्राओं के अनुसार आश्रमशाला में उन्हें किसी भी प्रकार की सुविधाएं प्राप्त नहीं है।

आश्रमशाला की संचालिका द्वारा उनके साथ अक्सर दुव्र्यवहार किया जाता है तथा उन्हें शासकीय नियम के अनुसार दिए जाने वाला भोजन भी पर्याप्त मात्रा में नहीं मिलता तथा उन्हें कभी-कभी भूखे पेट भी सोना पड़ता है। आश्रमशाला में ५ वीं से 12वीं कक्षा तक पढने वाली छात्राएं रहती हैं। इसके बावजूद उनकी सुरक्षा के नाम वहां कोई सुविधा नहीं देखी गई।

आश्रमशाला स्थित बाथरुम की कुंड़ी टूटी हुई थी। आश्रमशाला में बनाया जाने वाला भोजन लकडिय़ों पर बनता है, जिसे वहां रहने वाली लड़कियां चुनकर लाती हैं। खाने के लिए लाई गई सामग्री देखने पर पता चला कि खाने के लिए बनाई जाने वाली सब्जियां पूरी से सड़ी हुई थीं।

आश्रमशाला में रहने वाली ६वीं कक्षा की छात्रा अंबाझरी निवासी कु. निमिषा राऊत, ९वीं कक्षा की छात्रा नागपुर निवासी पूजा चिमनकर, १०वीं कक्षा की छात्रा निसतखेड़ा निवासी माधुरी पानतावने, १२वीं कक्षा की छात्रा नयाकुंड निवासी प्रियंका सहारे आदि ने बताया कि २६ जनवरी से उन्हें खाने के लिए राशन नहीं दिया गया।

पिछले शुक्रवार को ही शाला की संचालिका द्वारा राशन लाया गया तथा संचालिका द्वारा स्वयं सब्जी की खरीदी की गई वह सड़ी हुई थी। शाला में ४८ छात्राओं को सोने के लिए २ ही कमरे हैं। जिसमें से एक कमरे में लाईट का बल्व नहीं है।

इस संदर्भ में शाला की अधीक्षिका मीना जंगम से पूछताछ करने पर उन्होंने बताया कि इसके पूर्व स्कूल के संचालक द्वारा छात्राओं को सभी सुविधाएं दी जाती थीं, किंतु संचालक की बीमारी के बाद जब से स्कूल का कारोबार मेडम के हाथ में है तब से शाला में अव्यवस्था बढ़ गई है। यहां पानी की मोटर उपलब्ध नहीं है तथा खाना बनाने के लिए गैस सिंलेडर तक नहीं है।

स्कूल की संचालिका द्वारा छात्रों के साथ दुव्र्यवहार की शिकायतें भी सामने आई हैं। छात्राओं ने बताया कि संचालिका द्वारा उन्हें डेढ़ रोटी खाकर चुपचाप सोने के लिए कहा जाता है तथा उनके साथ गाली-गलौच तक की जाती है।

इस संदर्भ में शिवकुमार यादव ने समाज कल्याण अधिकारी सुरेंद्र पवार से बातचीत कर उन्हें मामले की पूरी जानकारी दी तथा बुधवार तक उन्हें खुद आकर समस्याओं को सुलझाने के लिए कहा।

छात्राओं की समस्या नहीं सुलझने पर जिप सदस्य शिवकुमार यादव, पंस विरोधी पक्ष नेता राजेश यादव, पंस सदस्य साबिर सिद्दीकी ने अनशन की चेतावनी दी है।