--Advertisement--

गंगा-जमुना में सामाजिक सुरक्षा विभाग ने मारा छापा, 11 नाबालिग सहित 21 गिरफ्तार

नाबालिग लड़कियों को महिला सुधारगृह भेज दिया गया है। पुलिस ने युवतियों, महिला दलालों और ग्राहकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

Dainik Bhaskar

Jul 19, 2014, 02:16 AM IST
Raid in Ganga Jamuna in Nagpur
(नाबालिग लड़कियों को महिला सुधारगृह भेज दिया गया है)
नागपुर. शहर के गंगा जमुना में शुक्रवार को पुलिस ने छापा मार कर 21 युवतियां और दो ग्राहकों को गिरफ्तार किया है। इसमें 11 नाबालिग लड़कियां और चार महिला दलालों का भी समावेश बताया गया है। अपराध पुलिस शाखा विभाग के सामाजिक सुरक्षा दस्ते की इस वर्ष यह सबसे बड़ी कार्रवाई है। कार्रवाई के समय वहां भगदड़ मच गई थी। गौरतलब है कि इससे पहले इसी तरह की एक कार्रवाई के दौरान भगदड़ में एक वारांगना की मौत हो गई थी। उसकी मौत का रहस्य अभी तक बरकरार है।
हर गली में पुलिस तैनात
शुक्रवार को सामाजिक सुरक्षा विभाग के प्रमुख बाजीराव पोवार ने सहयोगियों के साथ गंगा जमुना में छापा मारा। पवार ने करीब 25 पुलिस अधिकारी, तीन महिला गश्ती दल के साथ गंगा जमुना में घेरा डाला। इस बस्ती की हर गली में पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों को तैनात किया गया था।
पोवार ने बताया कि कार्रवाई के लिए 6 अलग-अलग दल बनाए गए थे। पुलिस ने 11 नाबालिग लड़कियां, 6 युवतियां, 4 महिला दलालों और 2 ग्राहकों को गिरफ्तार किया। नाबालिग लड़कियों को महिला सुधारगृह भेज दिया गया है। पुलिस ने युवतियों, महिला दलालों और ग्राहकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
आगे पढ़ें कमरे में बंद थीं नाबालिग लड़कियां
Raid in Ganga Jamuna in Nagpur
(पुलिस ने युवतियों, महिला दलालों और ग्राहकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है)
 
कमरे में बंद थीं नाबालिग लड़कियां 
 
पोवार ने बताया कि छापा मार कार्रवाई में पकड़ी गई 11 नाबालिग लड़कियों की उम्र 9 से 14 वर्ष के बीच है। इसमें से सर्वाधिक लड़कियां छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान से लाई गईं हैं। सूत्रों की मानें तो नाबालिग लड़कियों को उनके शरीर के हार्मोन्स बढ़ाने के लिए रोज इंजेक्शन और गोलियां दी जाती हैं। इस बात का खुलासा कार्रवाई के दौरान हुआ। गंगा जमुना में सर्वाधिक नाबालिग लड़कियों की मांग होने के कारण महिला दलाल इन्हें बाहरी राज्यों से खरीदकर लाती हैं।

दिया जाता है प्रशिक्षण
 
पुलिस सूत्रों ने बताया कि नाबालिग लड़कियों को देह व्यवसाय में उतारने से पहले विधिवत प्रशिक्षण दिया जाता है कि पुलिस कार्रवाई के दौरान पकड़े जाने पर अपना असली नाम न बताएं। यही कारण है कि पकड़ी गई लड़कियां और युवतियां अपना असली नाम नहीं बताती हैं। इसमें उन्हें तब फायदा होता है, जब उन्हें अदालत के समक्ष पेश किया जाता है। शुक्रवार को गंगा जमुना से जिन नाबालिग लड़कियों को पुलिस ने हिरासत में लिया, वे सभी एक ही इमारत का नाम बता रहीं थीं। जबकि पुलिस ने उन्हें अलग-अलग कमरे से पकड़ा।
 
Raid in Ganga Jamuna in Nagpur
 (अपराध पुलिस शाखा विभाग के सामाजिक सुरक्षा दस्ते की इस वर्ष यह सबसे बड़ी कार्रवाई है)
 
नाबालिग लड़कियों के कमरे में दोनों ग्राहक
 
पोवार ने बताया कि ग्राहक आकाश रमेश पुरोहित (25) छिंदवाडा और आदर्श प्रभुदयाल चतुर्वेदी (35) कामठी रोड निवासी को पुलिस ने नाबालिग लड़कियों के कमरे से गिरफ्तार किया। आकाश इंजीनियरिंग कॉलेज का छात्र है और आदर्श शहर के एक आलीशान होटल में नौकरी करता है। महिला दलालों में सपना गुवाल (30), विनीता अय्या (30), रंजीता कालखोर (30) और लक्ष्मी कर्मावत (30) है। इन चारों को पुलिस ने जब पकड़ा, तो बस्ती की कुछ महिलाओं और युवतियों ने विरोध जताने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस के समझाने पर वे पुलिस की कार्रवाई में दखलअंदाजी नहीं कीं।


 
X
Raid in Ganga Jamuna in Nagpur
Raid in Ganga Jamuna in Nagpur
Raid in Ganga Jamuna in Nagpur
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..