पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अपर्याप्त बारिश से नागपुर का भू-जलस्तर घटा,सलाइन लगाकर दे रहे पौधों को पानी

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नागपुर. इस वर्ष कमजोर मानसून से जीवन पर गंभीर संकट मंडराने के संकेत मिल रहे हैं। अपर्याप्त बारिश की वजह से भू-जल स्तर तेजी से घटा है। इसके संकेत हाल में मिले हैं। केंद्रीय भूमि जल बोर्ड, नागपुर द्वारा जिले में किए जा रहे भू-जल सर्वेक्षण में इसका खुलासा हुआ है। सर्वेक्षण के दौरान कलमेश्वर अंतर्गत मोहपा रोड पर सावंगी गांव में कुछ किसानों ने अपनी फसलों को पानी देने के लिए सलाइन का सहारा लिया है। यह किसान सलाइन में पानी भरकर पौधों को पानी दे रहे हैं।
जड़ों तक पहुंचता है पानी
किसानों का कहना है कि अपर्याप्त बारिश के कारण भूमि सिंचित नहीं हो पाई है, जिससे उन्हें सलाइन में पानी भरकर पौधों को देना पड़ रहा है। सलाइन से पानी धीरे-धीरे पौधों की जड़ों तक पहुंचता है, जिससे जड़ें मजबूत होती हैं। यह स्थिति सिर्फ सावंगी गांव तक सीमित नहीं है। नागपुर सहित संपूर्ण विदर्भ में यह स्थिति बनी हुई है। संबंधित किसान अपने-अपने तरीके से पानी का संवर्धन और जुगाड़ करने में लगे हैं।
गांवों में पानी की कमी से लोगों को दूर-दूर से पानी लाना पड़ रहा है। नागपुर शहर में भी अभी से पानी के टैंकरों की फेरियां देखी जा रही हैं। केंद्रीय भूजल बोर्ड के आधिकारिक सूत्र भी मानते हैं कि आने वाले दिन नागपुर खासकर विदर्भ के लिए संकट वाले हो सकते हैं। ऐसे में अभी से कड़े उपाययोजना करने की जरूरत है।