पुणे में मोदी की सभा आज, किले में तब्दील हुआ पूरा शहर

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुणे। बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पुणे में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। पुणे में एक साल के भीतर मोदी का यह तीसरा दौरा है। मोदी की इस रैली को 'भारत विजय रैली' का नाम दिया गया था। मोदी ने अपने भाषण की शुरुवात बाल गंगाधर तिलक के नारे को मराठी में बोलकर और शिवाजी महाराज को नमन करते हुए की।

मोदी ने कहा कि काशी की तरह ही पुणे का बहुत महत्व है। कांग्रेस को पुणे में कोई अच्छा व्यक्ति नहीं मिला यह बताता है कि कांग्रेस का हाल कितना बुरा हो गया है।

मोदी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के दफ़्तर के पूर्व सहयोगी संजय बारू द्वारा लिखी गई किताब का हवाला देते हुए सोनिया गांधी पर जम कर निशाना साधा। मोदी ने कहा कि, 'आज मुझे पता चला की दिल्ली में जो सरकार चल रही थी उसे मैडम सोनिया जी चला रही थी। उस सरकार की फाइल पहले सोनिया जी क्लियर करती थी और उसके बाद मनमोहन सिंह उसपर साइन करते थे। सरकार के मंत्री मैडम सोनिया जी के यहां चुने जाते थे, तबादले, नियुक्तियां सब मैडम सोनिया के यहां से होता था।

आगे मोदी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि, 'यह सुना था कि सरकार रिमोट से चल रही है लेकिन अब पता चला की सरकार का रिमोट किसके हाथ में है। उस दिन मुझे समझ नहीं आया की सहजादे की इतनी हिम्मत कैसे हो गई कि वह प्रधानमंत्री का कागज फाड़ दे। अब समझ में आया, इसके पीछे का असली खेल क्या था।
मोदी ने आगे कहा कि शरद पवार मैडम सोनिया के सरदार हैं। आज कल वह मुझ पर लगातार हमला बोल रहे हैं। देश में सरकार और सेना के बीच तालमेल सदियों से चला आया है, मगर पिछले कुछ सालों में वे एक-दूसरे पर हावी होने लगे हैं। इस तरह से देश नहीं चलेगा।

पुणे के एसपी कॉलेज मैदान में होने वाली इस चुनावी सभा के लिए लगभग 1 हजार पुलिस कर्मी तैनात किए गए थे। मोदी की इस रैली के मद्देनजर गुजरात पुलिस और आईबी की एक टीम तीन दिन से पुणे में डेरा जमा रखा था।

सभास्थल पर एक विशाल मंच बनाया गया था। मैदान में लाउडस्पीकर और लाइटस की अच्छी व्यवस्था की गई थी। सभा में आने वाले लोगों को मोदी का भाषण अच्छी तरह से दिखाई और सुनाई दे इसलिए 8 एलइडी स्क्रिन भी लगाई गई थी।

मोदी की इस सभा के दौरान महायुति के चारों उम्मीदवार अनिल शिरोले, महदेव जानकर, शिवाजीराव आढलराव-पाटील और श्रीरंग बारणे मौजूद थे।
मोदी का एक साल के भीतर पुणे का तीसरा दौरा था। इससे पहले मोदी जुलाई 2013 में युवाओं को पार्टी से जोड़ने की अपनी मुहिम के तहत फर्ग्युसन कॉलेज आये थे और उसके बाद वह नवंबर के महीने में लता मंगेशकर की ओर से बनाए गए अस्पताल का उद्घाटन करने पुणे पहुंचे थे।


आगे की स्लाइड में पढ़िए मोदी के पिछले 2 बार के पुणे दौरे से जुड़े मुख्य अंश....