पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रद्द हुई नाबालिग संग रेप के आरोपी निलंबित न्यायाधीश की जमानत

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
(प्रतीकात्मक तस्वीर)
पुणे : 16 साल की नाबालिग संग रेप के मामले में निलंबित न्यायाधीश की जमानत को सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर दिया है। अदालत ने आरोपी न्यायाधीश की जमानत पीड़ित लड़की के परिवार की ओर से दायर याचिका के बाद रद्द की है।
लड़की के परिजनों की शिकायत के मुताबिक जमानत पर रिहा होने के बाद आरोपी ने लड़की के पड़ोसियों और स्कूल शिक्षकों को पत्र लिख कर उसे बदनाम करने का प्रयास किया। साथ ही फोन पर धमकी देते हुए मानसिक रूप से प्रताड़ित करने की कोशिश भी की। सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी को 10 नवंबर तक पुलिस के समक्ष हाजिर होने का आदेश दिया है।
निलंबित न्यायाधीश नागराज सुदाम शिंदे (38) के खिलाफ नाबालिग से बलात्कार के आरोप में भारती विद्यापीठ पुलिस थाने में 31 जुलाई को प्राथमिकी दर्ज की गई थी। आरोपी सातारा जिला के खंडाला कोर्ट में न्यायाधीश था। गिरफ्तारी के कुछ दिनों बाद आरोपी शिंदे को अग्रिम जमानत मिली थी। जमानत मिलने के बाद पीड़ित के परिजनों ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर जमानत रद्द करने की मांगी की थी। लेकिन उस दौरान पहली याचिका को खारिज कर दिया गया था।