• Hindi News
  • Ragging Crime, Mumbai, Maharashtra, Sucide

ऑफिस सहकर्मियों ने की रैगिंग, तंग आकर युवती ने लगाया मौत को गले

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नासिक.नासिक के सातपूर स्थित बॉश कंपनी में ट्रेनी (प्रशिक्षु) कर्मचारी के रूप में काम करने वाली 19 वर्षीय युवती प्रणाली प्रदीप रहाणे ने अपने सहकर्मियों द्वारा लगातार की जा रही रैगिंग से तंग आकर खुदकुशी कर ली है। स्थानीय इंदिरानगर पुलिस ने प्रणाली के सुसाइड नोट के आधार पर चार लड़कियों और छह लड़कों सहित कुल १क् लोगों को गिरफ्तार किया है। अदालत ने गिरफ्तार अभियुक्तों को 7 सितंबर तक पुलिस हिरासत में रखने का आदेश दिया है।
मृतक युवती प्रणाली के पिता का आरोप है कि ऑफिस में उनकी बेटी का उसके सहकर्मी कई महीनों से रैगिंग कर रहे थे। उन्होंने बताया कि छोटी-छोटी बात पर ताने मारना, अभद्र टिप्पणी करना और प्रणाली को हमेशा नीचा दिखाने की कोशिश उसके सहकर्मी करते थे। जबकि वह बहुत ही मेहनती व होशियार लड़की थी। बैंगलोर में हुए टर्नर की परीक्षा में वह अव्वल आई थी। कुछ महीने बाद ही उसे जर्मनी भेजा जाने वाला था। संभवत: इनही सब वजहों से उसके सहकर्मी उसके प्रति मन में जलन की भावना रखते थे। पुलिस का कहना है कि रविवार की रात प्रणाली ने पहले अपने हाथ की नश को काटा और उसके बाद फांसी लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश की।
परंतु घरवालों ने उसे करीब के अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया जहां, उसकी मंगलवार को इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलिस को प्रणाली के हाथों लिखा घटनास्थल से एक सुसाइड नोट मिला था। जिसमें उसने भूषण परदेसी, अभिजित भोर, विशाल कोरडे, अमित पवार, स्वप्निल सोनवणो, श्वेता शिंदे, तेजस्वीनी बिरारी, शुभदा काजले, नेहा सोनवणो और हर्षल पाटिल पर ऑफिस में रैगिंग किये जाने का आरोप लगाया था। ऑफिस में लगातार हो रही रैगिंग से तंग आकर ही खुदकुशी करने की बात प्रणाली ने सुसाइड नोट में लिखा था। पुलिस ने रैगिंग एक्ट और आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोप में दसों लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।