शहीद सैनिकों को दी श्रद्घांजलि

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नागपुर. पाकिस्तानी सेना द्वारा सारी सीमाओं को पार कर परंपरानुसार क्रूरता का परिचय देते हुए धोखे से दो भारतीय जवानों पर हमले किया गया, जिसका सभी ने निषेध किया।

शहर शिवसेना द्वारा इतवारी शहीद चौक पर शाम 5 बजे पाकिस्तानी झंडा जलाकर शेष व्यक्त किया गया। इस अवसर पर शहर प्रमुख सूरज गोजे ने कहा कि स्व. बालासाहब ठाकरे नित्य ही पाकिस्तानी क्रिकेट टीम तथा पाकी संगीत कलाकारों के कार्यक्रमों का विरोध करते रहे।

अनेक लोगों को उनकी बातें व्यर्थ लगती थीं। आज उन्हीं व्यक्तियों ने इस बात को माना है। पाकिस्तान हमेशा ही भारत विरोधी कृत्यों में लिप्त रहा है। कसाब के उदाहरण के बाद कोई और गुंजाइश बाकी नहीं रही। विश्व नीति का भी उन्होंने अनेक बार उल्लंघन किया है।

अब हमें सचेत हो जाना चाहिए, अन्यथा कोई और माता फिर अपने बेटे के सिर वापस लाने की मांग कर देश को धर्म संकट की स्थिति में खड़ा का सकती हंै। निषेध सभा में नंदकिशोर जुनगड़े, परसराम बोकडे, शरद पाठराबे, नरेंद्र मगरे, किशोर राठौर तथा सैकड़ों शिवसैनिक उपस्थित थे।

रक्षामंत्री का पुतला फूंका

पाक की नापाक हरकत के विरोध में रानी दुर्गावती चौक पर रक्षामंत्री का पुतला जलाया गया। शिवसेना युवा सेना के कार्यकर्ताओं ने शनिवार दोपहर पाकिस्तानी सेना की नापक हरकत के विरोध में बिनाकी स्थित रानी दुर्गावती चौक पर रक्षामंत्री ए.के. एंटोनी के पुतले का दहन किया।

इस अवसर पर उन्होंने मांग की कि यदि देश के रखवालों पर शर्मनाक तरीके से हमला करने वालों का विरोध किया जाना चाहिए। यदि विरोध नहीं कर सकते तो रक्षामंत्री को इस्तीफा देना चाहिए।

यही देश के वीरों को सच्ची श्रद्घांजलि होगी। निषेध प्रदर्शन में शिवसेना युवा सेना जिला प्रमुख हितेश यादव, शहर प्रमुख आकाश सरोदे, जेंटिलसिंह लोहिया, टिंकूसिंह दिगवा, सुनील बैनर्जी, रवि पराते, जैसी नंदेशकर, नरेश टिकसे, प्रमोद झाडे, तेजा सोमकुुंवर, मोनू दुधेकर, संजय डोकटमारे, सिद्घार्थ बागडे, योगेश नंदनकर तथा अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे।