पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • घरेलू पर्यटकों को बंगाल, राजस्थान के बजाए मप्र ज्यादा पसंद

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

घरेलू पर्यटकों को बंगाल, राजस्थान के बजाए मप्र ज्यादा पसंद

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने में मध्यप्रदेश भले ही पिछड़ा हो लेकिन घरेलू पर्यटकों को लुभाने में प्रदेश पश्चिम बंगाल, झारखंड और राजस्थान से काफी आगे है। वर्ष 2014 में देश के विभिन्न राज्यों में घरेलू पर्यटकों की संख्या 1.29 अरब थी इसमें से 4.9 फीसदी पर्यटक मध्यप्रदेश आए। जबकि राजस्थान और झारखंड जैसे राज्य में कुल संख्या में से महज 2.6 फीसदी पर्यटक ही पहुंचे थे।

पश्चिम बंगाल जाने वालों की संख्या इससे थोड़ी ज्यादा 3.8 फीसदी थी। देशी पर्यटकों को आकर्षित करने के मामले में सबसे अव्वल तमिलनाडु रहा है। उसके बाद उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश और तेलंगाना शामिल हैं। प्रदेश में पर्यटकों की स्थिति का यह खुलासा यूनिवर्सिटी ग्रांट कमिशन के डिप्टी सेक्रेटरी डॉ. जीएस चौहान ने अपनी स्टडी में किया है। उन्होंने अपना यह शोध पत्र पिछले महीने अगस्त में चीन के बीजिंग में हुई 33 वीं इंटरनेशनल ज्योग्राफिकल कांग्रेस में प्रस्तुत किया। डॉ. चौहान ने बताया कि मप्र के पर्यटन स्थलों को लेकर 108 प्रतिभागी देशों के एक्सपर्ट्स ने काफी रुचि दिखाई है। इस कार्यक्रम में चीन और जापान के बाद सबसे ज्यादा 102 प्रतिभागी भारत से थे। पेपर व पोस्टर प्रेजेंटेशन में विदेशियों ने खजुराहो, सांची, भीम बैठका के साथ ही वन्य जीव अभयारण्य को लेकर सबसे ज्यादा सवाल किए। बौद्ध देशों से आए एक्सपर्ट सांची के स्तूपों के बारे में जानने के लिए ज्यादा उत्सुक थे।

डॉ. चौहान के अनुसार घरेलू के मुकाबले विदेशी पर्यटकों के मप्र आने का आंकड़ा महज 0.52 प्रतिशत ही है। इसका कारण प्रदेश के पर्यटन स्थलों का विदेशाें में सही तरह से प्रचार प्रसार नहीं होना माना जा सकता है। इसके साथ ही इंफ्रास्ट्रक्चर कमी कमी भी इसका एक बड़ा कारण है। वर्ष 2012 में कुल 5 करोड़ 34 लाख 73 हजार 139 पर्यटक प्रदेश आए थे। इनमें से विदेशी पर्यटकों की संख्या केवल 2 लाख 75 हजार 930 रही थी।





मिनी एयरपोर्ट बनाने के सुझाव भी आए
जबलपुर, ग्वालियर, सिंगरौली, बुरहानपुर, खंडवा, सीधी व शहडोल में मिनी एयरपोर्ट बने।

उत्तराखंड में बाढ़ से तबाह हुई पर्यटन इंडस्ट्री जैसे हादसों से सबक लेते हुए विदेशी पर्यटकों की सुरक्षा के पर्याप्त साधन जुटाए जाएं।

विदेशी पर्यटकों को लुभाने के लिए खजुराहो डांस फेस्टीवल की तर्ज पर ज्यादा से ज्यादा फेस्टीवल आयोजित किए जाएं।

भेड़ाघाट, सांची, भीम बैठका, भोजपुर, ओरछा, बांधवगढ़, कान्हा, पन्ना, पचमढ़ी आदि स्थानों का प्रचार प्रसार सोशल मीडिया के माध्यम से भी विदेशों में किया जाए।

पर्यटन के विकास में यह कमियां भी
इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट की कमी। खराब सड़कें और एयर सर्विस की कम सुविधा।

सुदूर क्षेत्रों में पहुंचने के लिए ट्रांसपोर्ट के खराब साधन।

पर्यटन से जुड़े उद्योगों को अन्य सरकारी विभाग से तालमेल में कमी।

विदेश पर्यटकों के बचाव व सुरक्षा की पर्याप्त व्यवस्था नहीं होना।

पुरातत्व महत्व के स्थलों व एेतिहासिक भवनों के संरक्षण पर ध्यान नहीं देना।

एयर सर्विस की सुविधा ठीक हो तो बढ़ेंगे सैलानी
कुल पर्यटकों की स्थिति
कुल टॉप 10 राज्य 1.06 अरब

अन्य 22.24 करोड़

कुल पर्यटक 1.29 अरब

2014 में घरेलू पर्यटकों की संख्या के हिसाब से टॉप टेन राज्य

राज्य संख्या कुल

तमिलनाडु 327555233 25.4%

उत्तर प्रदेश 182820108 14.2%

कर्नाटक 118283220 9.2%

आंध्रप्रदेश 93306974 7.5%

महाराष्ट्र 94127124 7.3%

तेलंगाना 72399113 5.6%

मध्यप्रदेश 63614525 4.9%

पश्चिम बंगाल 49029590 3.8%

झारखंड 33076491 2.6%

राजस्थान 33076491 2.6%

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

    और पढ़ें