• Hindi News
  • National
  • पुलिस को नकली व्हे प्रोटीन के खरीदारों का पता नहीं

पुलिस को नकली व्हे प्रोटीन के खरीदारों का पता नहीं

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल| नकली व्हे प्रोटीन बेचने वाले दुकानदार को गिरफ्तार कर मामले की जांच ठंडी पड़ गई है। इस मामले में हनुमानगंज पुलिस न उन खरीदारों को पकड़ पाई है, जिन्हें बुलंदशहर से आए जालसाजों ने नकली व्हे प्रोटीन बेचा था। पकड़े गए आरोपी जेल भी चले गए, लेकिन पुलिस नकली व्हे प्रोटीन खरीदने वाले जिम संचालकों का भी नाम भी नहीं उगलवा सकी है।

बीती 20 जनवरी को हनुमानगंज पुलिस ने बुलंदशहर निवासी मोहम्मद शमीम आलम, मोहम्मद आजाद, काशिफ खान और मोहम्मद शाहिद को गिरफ्तार किया था। आरोपी अरारोट, चॉकलेट पाउडर और शक्कर के बुरादे का इस्तेमाल कर नकली व्हे प्रोटीन बनाते थे। करीब डेढ़ साल में आरोपियों ने भोपाल में डेढ़ सौ किलो फूड सप्लीमेंट सप्लाई किए हैं। आरोपियों के कब्जे से पुलिस ने मेरठ, अलीगढ़, आगरा और बुलंदशहर के फिटनेस सेंटर्स के नंबर भी मिले हैं। अगले दिन पुलिस ने उनसे नकली व्हे प्रोटीन खरीदने वाले संचालक अमान कुरैशी को भी गिरफ्तार कर लिया। सभी आरोपी जेल चले गए, लेकिन अब तक पुलिस उन लोगों तक नहीं पहुंच पाई है, जिन्हें ये नकली प्रोटीन दुकान से बेचा गया था। जांच अधिकारी का तर्क है कि अमान जिम जाने वाले युवकों को व्हे प्रोटीन बेचता था। उसकी सप्लाई फिटनेस सेंटर्स तक नहीं थी। बुलंदशहर के आरोपियों ने दो दुकानों के बारे में बताया था, लेकिन उनकी पहचान अब तक नहीं हो सकी है।

खबरें और भी हैं...