अब जाने पुलिसिंग के मायने

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
दामाद ने उम्मीदों पर फिर पानी फेरा
एक ज्वेलर्स शोरूम का उद्घाटन करने आए अमिताभ बच्चन को लेकर भोपाल नगर निगम कुछ ज्यादा ही उत्साहित था। निगम के अफसरों को उम्मीद थी कि बिग बी ससुराल आए हैं तो शहर को कुछ देकर जाएंगे। इस भरोसे उन्होंने बिग-बी की आवाज में स्वच्छता का संदेश रिकार्ड कराने के सपने संजो लिए थे। पहले तो अधिकारियों ने उनसे संपर्क करने की पूरी कोशिश की, जब बात नहीं बनी तो एक एनजीओ का सहारा भी लिया गया। लेकिन कामयाबी नहीं मिल पाई। हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब बिग बी के मामले में बीएमसी को मुंह की खानी पड़ी हो। इसके पहले निगम ने एक समारोह का संचालन दामाद जी से कराने का प्रयास किया था, जो विफल रहा था।

भोपाल डीआईजी संतोष कुमार सिंह ने राजधानी के मोहपाश में बंधे अधीनस्थ अधिकारियों को पुलिसिंग के साथ ही नौकरी करना सिखा दिया है। अब देर रात तक अतिरिक्त एवं नगर पुलिस अधीक्षक न केवल ड्यूटी देते हैं, बल्कि गश्त और चेकिंग पर भी नजर रखते हैं। इस वजह से थाना प्रभारियों ने भी अपने-अपने क्षेत्र में भ्रमण करना शुरू कर दिया है। इससे अपराधियांे में पुलिस का खौफ बनने लगा है। छुटपुट अपराध तो पुलिस की उपस्थिति मात्र से ही टल रहे हैं। सख्त ड्यूटी के चलते कुछ पुलिस अफसरों ने तो भोपाल छोड़ने का मन बना लिया है। बाकी अफसर साहब के प्रमोशन के इंतजार में हैं।

खबरें और भी हैं...