• Hindi News
  • National
  • खुले मैदानों से सिलेंडर देने पर दो गैस एजेंसी पर कार्रवाई

खुले मैदानों से सिलेंडर देने पर दो गैस एजेंसी पर कार्रवाई

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
उपभोक्ताओं के घर सिलेंडर पहुंचाने का चार्ज लेकर उन्हें गोडाउन और खुले मैदानों से सिलेंडर देने के मामले में कलेक्टर ने लालघाटी स्थित प्रियंका गैस एजेंसी और सिंधी कॉलोनी स्थित रूपा गैस एजेंसी पर कार्रवाई की है। उनके सिलेंडर और वाहन राजसात करने के आदेश दिए हैं। इसमें रूपा गैस एजेंसी संचालक राजेश व्यास पर पहले ही एफआईआर की गई थी, जबकि प्रियंका गैस एजेंसी संचालक प्रकाश मूलचंदानी पर अब एफआईआर कराई जाएगी।

नगर निगम क्षेत्र में सभी गैस एजेंसी संचालकों को अनिवार्य रूप से होम डिलीवरी कर सिलेंडर देने के आदेश दिए गए हैं, लेकिन एजेंसी संचालक आधे से ज्यादा उपभोक्ताओं को गोदाम या खुले मैदान में वाहन से सिलेंडर बेचते हैं। इसके बदले में होम डिलीवरी के 8 रुपए वसूल किए जाते हैं। इसको लेकर सितंबर-2012 में खाद्य विभाग की टीम ने गुफा मंदिर मेन रोड से प्रियंका गैस एजेंसी की मेटाडोर जब्त की थी, जिसमें 107 गैस सिलेंडर जब्त किए थे। खाद्य विभाग ने केस दर्ज कर कलेक्टर कोर्ट में पेश किया। जिसमें शनिवार को कलेक्टर डॉ सुदाम खाड़े ने ज्यादा पैसे वसूलने और समय पर सिलेंडर नहीं देने पर मेटाडोर सहित सिलेंडर राजसात करने और एजेंसी संचालक पर एफआईआर के आदेश दिए हैं।

कोर्ट से भी राहत नहीं

जून 2012 में रूपा गैस एजेंसी की मेटाडोर को पुतली घर स्थित मैदान में पकड़ा गया था। इस वाहन में 58 भरे हुए घरेलू गैस सिलेंडर रखे थे। एजेंसी का कर्मचारी यहां से 390 रुपए में सिलेंडर बेच रहा था, जबकि उस समय सिलेंडर की कीमत 388.60 रुपए थी। कलेक्टर कोर्ट में केस चला। वाहन और सिलेंडर को राजसात किया गया। एजेंसी संचालक राजेश व्यास ने अष्टम अपर सत्र न्यायाधीश भूपेंद्र सिंह के कोर्ट में केस दायर कर दिया। जिसमें कोर्ट ने कलेक्टर के आदेश को बहाल रखा है। इसके बाद वाहन और सिलेंडर को नीलाम किया जाएगा। एफआईआर के मामले में पुलिस कोर्ट में चालान पेश करेगी।

गैस सिलेंडर और ट्रक राजसात
खबरें और भी हैं...