• Hindi News
  • बोर्ड परीक्षाओं में सुविधाएं चाहते हैं लेक्चरर प्राचार्य

बोर्ड परीक्षाओं में सुविधाएं चाहते हैं लेक्चरर-प्राचार्य

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल| प्रदेश के 30 जिलों से आए लेक्चरर, प्राचार्य आदि ने मप्र माशिमं की परीक्षाओं के दौरान चुनाव आयोग की ड्यूटी के दौरान जैसी सुविधाओं की मांग की है। साथ ही परीक्षाओं में कलेक्टरों के हस्तक्षेप को हास्यास्पद बताते हुए कहा है कि केंद्राध्यक्षों व सहायक केंद्राध्यक्षों की नियुक्ति में जिला कलेक्टर की प्रशासनिक क्षमताओं पर भरोसा नहीं करता।इस तरह की बातें रविवार को समग्र शिक्षा व्याख्याता एवं प्राचार्य कल्याण संघ मप्र की प्रांतीय मीटिंग में सामने आईं।



अध्यक्षता संघ के प्रदेश अध्यक्ष मुकेश शर्मा ने की। वक्ताओं ने कहा कि चुनाव आयोग ड्यूटी के दौरान कर्मचारियों का बीमा करवाता है, परिवहन व सुरक्षा व्यवस्था करता और मानदेय का भुगतान भी पहले ही कर देता है। जबकि माशिमं की परीक्षाओं की ड्यूटी के दौरान इसकी उलट स्थिति बनती है और लेक्चरर, प्राचार्य व शिक्षकों को अपनी जान जोखिम में डालना पड़ती है। हरदा के एएस राजपूत ने कहा कि माशिमं द्वारा हर साल करीब 4 से 5 करोड़ रुपए टैक्स के रूप में भुगतान कर दिया जाता है, लेकिन शिक्षकों को सुविधाएं नहीं दी जातीं। मीटिंग को विदिशा से आए गोविंद राठी, राजगढ़ के राजेश भारती, सीहोर के रवींद्र सक्सेना, रतलाम के प्रदीप कुरील, भेापाल के रंजन शर्मा के अलावा भावना शर्मा, ज्योत्सना गुर्जर आदि ने भी संबोधित किया।