जिस स्कूल में पढ़े सीएम शिवराज, अब उसी स्कूले के बच्चों को जाएंगे पढ़ाने

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल. राजधानी सहित प्रदेश के जिलों में पहली बार मंत्री, विधायक, कलेक्टर, कमिश्नर सहित आम लोग स्कूलों में जाकर भाषा का ज्ञान बांटेगे। इसी के तहत 18 फरवरी को स्कूल चलें हम अभियान के तहत ‘मिल बांचे मप्र’ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान उसी स्कूल में पढ़ाने जाएंगे, जहां वे 6वीं से 8वीं तक पढ़े हैं। यह स्कूल है शिवाजी नगर स्थित संजय गांधी माध्यमिक शाला। इसका नाम पहले 1464 माध्यमिक शाला था।
 
सीएम के साथ मंत्री, सांसद, विधायक, कमिश्नर, कलेक्टर, पुलिस आईजी, एसपी सहित आमजन भी प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में एक दिन के लिए बच्चों को भाषा का पाठ पढ़ाएंगे। अभियान से आम लोगों को जोड़ने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा। यह रजिस्ट्रेशन 10 फरवरी तक www.schoolchalehum.mp.gov.in पर पसंद का स्कूल चुनकर पढ़ाने के लिए जा सकेंगे। इसके लिए स्कूल शिक्षा विभाग ने स्कूल चलें हम अभियान की वेबसाइट पर वॉलेंटियर का आॅप्शन रखा है। 18 फरवरी से शुरू होने वाले अभियान के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू हो गए हैं।
 
 
ज्यादातर ने बुक कराए स्कूल
कलेक्टर निशांत वरवड़े ने बताया कि जिले के 373 मिडिल व 824 प्राइमरी स्कूलों में पढ़ाने के लिए अब तक 598 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराए हैं। सीईओ आशीष भार्गव का कहना है कि वॉलेंटिर्स के तौर पर स्कूलों में पढ़ाने का अभियान शुरू किया है। स्कूलों में पढ़ाने के लिए अफसरों ने चार इमली स्थित आसपास के स्कूलों में रजिस्ट्रेशन का प्रयास किया, लेकिन यहां के स्कूल पहले से ही बुक थे, जिससे वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है। इसी वजह से कमिश्नर अजातशत्रु श्रीवास्तव और कलेक्टर वरवड़े को दूसरे स्कूलों में रजिस्ट्रेशन कराना पड़ा।
खबरें और भी हैं...