पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • पुलिस खंगाल रही 300 सेलफोन की कॉल डिटेल, आतंकियों के मददगार की है तलाश

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पुलिस खंगाल रही 300 सेलफोन की कॉल डिटेल, आतंकियों के मददगार की है तलाश

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल. केंद्रीय जेल से दीपावली की रात फरार हुए सिमी के आठ आतंकियों ने रायपुर जाने का प्लान बनाया था। उन्हें नजीराबाद के रास्ते राजगढ़ जाना था। पुलिस का तर्क है कि घटनास्थल की ओर से जा रही एक सड़क ईंटखेड़ी होते हुए नजीराबाद जाती है। वहीं फरारी में आतंकियों के मददगार की पहचान करने पुलिस ने 300 मोबाइल नंबर्स का कॉल रिकाॅर्ड खंगालना शुरू कर दिया है। क्या है मामला...
ये बैग वे जेल से साथ लेकर फरार हुए थे
-इनमें जेल विभाग के अफसरों और कर्मचारियों के नंबर भी शामिल हैं।
सूत्रों ने बताया कि एक जेल प्रहरी ने आतंकियों काे गांधीनगर की ओर जाते देखा था।
-उस वक्त उनके पास दो बैग भी थे। ये बैग वे जेल से साथ लेकर फरार हुए थे अथवा किसी मददगार ने उन्हें दिए थे ? इसकी पड़ताल की जा रही है।
पेशी के दौरान दी गईं पर्चियां
-सूत्रों के मुताबिक फरार आतंकियों को कोर्ट पेशी के दौरान उनके मददगार ने पर्चियां दी थी।
-संभवत: इन पर्चिंयों में आतंकियों को जेल से फरार होने के बाद नजीराबाद, राजगढ़ के रास्ते रायपुर पहुंचने का रूटमैप था।
-उधर, एनकाउंटर का मामला हाईकोर्ट पहुंच गया। भोपाल निवासी अवधेश भार्गव ने जनहित याचिका दायर कर मामले की जांच सेवानिवृत्त हाईकोर्ट जज या स्वतंत्र एजेंसी से कराने की मांग की है।
17 आतंकियों ने भागने के लिए बनाई थी 17 चाबियां
-सेंट्रल जेल में बंद 29 आतंकियों में से 17 ने दिवाली की रात भागने की साजिश की थी। जेल ब्रेक का मास्टरमाइंड अबू फैजल था।
-प्लान के मुताबिक, हाई सिक्युरिटी सेल के खंड-अ और खंड-ब में बंद 17 आतंकियों की बैरकों की चाबियां तैयार की गई थीं। हर चाबी पर ताले का नंबर था। ताकि बिना गफलत के वे बाहर आ सकें।
-लेकिन, टाइम मैनेजमेंट में गड़बड़ी के कारण 8 ही भागने में कामयाब हुए। जेल प्रशासन और पुलिस की शुरुआती जांच में ये तथ्य सामने आए हैं।
-सूत्रों ने बताया कि जेल मैनुअल का खुला उल्लंघन होता था। आतंकी दिनभर बैरकों के बाहर मेलजोल के लिए आजाद थे।
लापरवाही पर अब सीधे जेल अधीक्षक होंगे सस्पेंड
-केंद्रीय, जिला और उपजेलों में कहीं भी यदि अब सुरक्षा में चूक या लापरवाही सामने आती है तो प्रहरी, मुख्य प्रहरी नहीं बल्कि जेल अधीक्षकों को सस्पेंड किया जाएगा। उनपर ही कार्रवाई होगी। आगे से सिपाही सस्पेंड नहीं होंगे। -मुख्य सचिव बीपी सिंह, जेल विभाग के प्रमुख सचिव वीसी सेमवाल और डीजी जेल संजय चौधरी ने गुरुवार को सभी जिलों की वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए समीक्षा की।
-इसमें मुख्य सचिव ने ताकीद की कि अब किसी भी तरह की गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं की जाए। बड़े अफसर भी कार्रवाई के दायरे में आएंगे।
-उन्होंने यह भी कहा कि वे खुद हर माह जेल की समीक्षा करेंगे। हर 15 दिन में प्रमुख सचिव को मॉनिटरिंग करनी होगी।
-दो घंटे तक चली कॉन्फ्रेंसिंग में 15 मिनट मुख्य सचिव रहे। इस दौरान निर्णय लिया गया कि हर जेल का ऑडिट होगा।
-इससे पहले एक कमेटी बनाई जाएगी, जो सभी जिलों की जरूरतों व उन्हें कैसे सुरक्षित बनाया जाए, इस पर रिपोर्ट देगी।
-कमेटी में डीजीपी, डीजी जेल, पीएस पीडब्ल्यूडी और पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन के नॉमिनी सदस्य होंगे।
घटनास्थल पर पहुंची एसआईटी
-एनकाउंटर मामले की जांच कर रही सीआईडी एसआईटी ने गुरुवार को खेजड़ादेव गांव की लाल दांत पहाड़ी का निरीक्षण किया।
-टीम पुलिस और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ के तथ्य जुटाने पहुंची थी।
-वहीं दूसरी ओर फॉरेंसिक लेबोरेटरी सागर के विशेषज्ञों ने घटना स्थल से जरूरी सबूत जुटाने ब्लड सहित दूसरे फोरेंसिक सेंपल लिए।
आगे की स्लाइड्स में देखें, फोटो...
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

    और पढ़ें