पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ट्रेनों में चेन पुलिंग कर करते थे लूटपाट, ऐसे रोकते थे हाईस्पीड ट्रेनें

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल. चलती ट्रेनों में लूटपाट और चोरी करने वाले सतना की शातिर मंजा गैंग के पांच सदस्यों को बीना जीआरपी ने गिरफ्तार किया है। ये गैंग एंगल कॉक कर ट्रेनों को रोक लेता था। फिर ट्रेन चलने का इंतजार करता था। ट्रेन जैसे ही चलती थी, बदमाश यात्रियों का सामान लूटकर उतर जाते थे। ये गैंग अब तक उप्र, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र में वारदातें करने के बाद मप्र में भी सक्रिय हुआ था। पुलिस ने आरोपियों के पास से करीब दस लाख रुपए का माल बरामद किया है।

दो जुलाई को इसने शान ए भोपाल में सफर कर रही अरेरा कॉलोनी निवासी शोभा मोहबे के जेवर लूट लिए थे। एसआरपी अनीता मालवीय के मुताबिक इस गिरोह ने 12 जुलाई को गोंडवाना एक्सप्रेस को आगसोद स्टेशन के पास भी रोककर महिलाओं के साथ लूटपाट की थी। तभी से इस गिरोह की तलाश जारी थी। गैंग का सरगना आशीष गुप्ता उर्फ मंजा बीना जीआरपी के हाथ लग गया। पूछताछ में उसने अपने चार अन्य साथियों संदीप रघुवंशी, धर्मेंद्र गुप्ता, मनोज जोगी और विजय गुप्ता के नाम भी बताए। इस आधार पर पुलिस ने इन चारों को भी गिरफ्तार कर लिया। सभी आरोपी सतना जिले के रहने वाले हैं। उनकी निशानदेही पर पुलिस ने चोरी और लूट के दस मामलों का खुलासा किया है।
 
इलाहाबाद में अब तक 70 वारदात
डीएसपी अनिल सोनकर के मुताबिक आशीष उर्फ मंजा इस गिरोह का सरगना है। करीब पांच साल से सक्रिय ये गिरोह कई राज्यों में अपराध कर चुका है। चलती ट्रेन में आरोपी बाहरी तरफ से बोगी तक बदल लेते हैं। अब तक ये उप्र, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश के कई जिलों में वारदातें कर चुके हैं। इलाहाबाद में तो इस गैंग ने अब तक 70 से ज्यादा अपराध कबूल किए हैं। इन दिनों ये गिरोह मप्र में भी सक्रिय हो गया था। उनके निशाने पर खासकर महिलाएं और गेट के पास सो रहे यात्री होते थे।
 
ऐसे रोकते थे हाईस्पीड ट्रेनें
डीएसपी के मुताबिक दो डिब्बों के बीच हुई कपलिंग (जोड़ने का उपकरण) पर नजर रखते थे। इसे ऊपर की ओर उठाकर आरोपी एंगल कॉक कर देते थे। इससे ट्रेन के सभी बोगियों से कनेक्ट होस पाइप से पूरी स्टीम निकल जाती थी। मजबूरन लोको पायलट को ट्रेन रोकनी पड़ती थी। उन्होंने बताया कि इसके साथ ही  बदमाशों ने कई बार चेन पुलिंग कर भी ट्रेनें रोकी हैं।
खबरें और भी हैं...