40 हजार घरेलू कामकाजी महिलाओं को नगर निगम बनाएगा स्मार्ट, देगा ट्रेनिंग

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल. मकानों में कपड़े, बर्तन, झाड़-पोछा और खाना बनाने वाली महिलाओं को हाउस कीपर कम कुक की ट्रेनिंग दी जाएगी। जिससे इन महिलाओं को घरों में काम करने का अच्छा मेहनताना मिलेगा। नगर निगम ने पहली बार इन महिलाओं की हालत सुधारने के लिए बड़े स्तर पर ट्रेनिंग प्रोग्राम रखा है। इससे शहर में काम करने वाली करीब 40 हजार घरेलू कामकाजी महिलाओं को फायदा मिलेगी।  राजधानी में करीब 40 हजार महिलाएं दूसरे घरों में झाड़ू-पोछा, बर्तन, कपड़े और खाना बनाने का काम करती हैं। इन महिलाओं के बाकायदा कार्ड भी बनाए गए हैं। वर्तमान में इन महिलाओं को घरों में काम करने के बदले कम वेतन दिया जाता है। जिसकी वजह से यह महिलाएं सुबह से शाम तक अलग-अलग घरों में काम करके अपना गुजर-बसर करती हैं। 

- इन महिलाओं के जीवन स्तर को सुधारने के लिए नगरीय प्रशासन विभाग ने नगर निगम में रजिस्ट्रेशन कराया है। जिससे इन महिलाओं को अलग-अलग योजनाओं में अलग से फायदा दिया जाता है। अब इन महिलाओं को स्मार्ट बनाने के लिए विभाग ने हाउस कीपर कम कुक की ट्रेनिंग देने का निर्णय लिया है।
- जिसके तहत महिलाओं को होम एप्प लायंस सहित अन्य घरेलू उपकरणों के रखरखाव की ट्रेनिंग दी जाएगी। यह ट्रेनिंग 100 घंटे (एक महीना) की रहेगी। जिसमें महिलाओं को खाना बनाने का हुनर सिखाया जाएगा। इसके साथ ओवन, वाशिंग मशीन, गैस चूल्हा, मिक्सर ग्राइंडर, फ्रिज सहित अन्य उपकरणों के रखरखाव की बारीकी से ट्रेनिंग दी जाएगी। 
 
 
ट्रेनिंग लेने पर मिलेगी दो हजार रु. की मदद
 
- नगरीय प्रशासन विभाग ने इन महिलाओं को ट्रेनिंग देने के लिए स्वयं सेवी संस्थाओं (एनजीओ) से ट्रेनिंग प्रोग्राम के टेंडर मांगे हैं। जिसके तहत अलग-अलग एनजीओ को इन महिलाओं को ट्रेनिंग देने की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। ऐसी महिलाएं जिन्होंने पहले से नगर निगम में घरेलू कामकाज करने का परिचय पत्र ले लिया है। उन्हें ट्रेनिंग लेने पर नगर निगम की तरफ से दो हजार रुपए की राशि दी जाएगी।
 
होटलों में मिलेगा काम करने का मौका
 
 
- हाउस कीपर कम कुक ट्रेंड की ट्रेनिंग लेने वाली महिलाओं को निजी होटलों में भी काम करने का मौका आसानी से मिल सकता है। इसके साथ घरों में इस ट्रेनिंग का सर्टिफिकेट दिखाने से इन्हें अच्छी खासी सेलरी भी मिल जाएगी। जिससे इन महिलाओं की आर्थिक स्थिति सुधारने   की उम्मीद नजर आ रही है।
 
महिलाओं को मिलेगा फायदा
- नगरीय क्षेत्र में रहने वाली रजिस्टर्ड घरेलू कामकाजी महिलाओं को हाउस कीपर कम कुक की ट्रेनिंग दी जानी है। इससे महिलाओं को घरों के उपकरणों के बारे में बारीकी से सिखाया जाएगा। जिससे इन्हें काम करने में मदद मिलेगी। इसको लेकर एक दौर की बैठक पिछले दिनों हो चुकी है।
सुदाम पी खाडे, कलेक्टर
खबरें और भी हैं...