पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

5 साल में व्यापार हुआ आधा, वजूद के लिए लड़ रहा शहर

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल। पुराना शहर जो अपनी तहजीब, विरासत को अपने में समेटे हुए है, अब वह अपने वजूद के लिए लड़ रहा है। यहां विकास की रफ्तार थम चुकी है। अतिक्रमण ने सूरत ही बिगाड़ दी है। नतीजा, चौड़ी सड़कें, बाग-बगीचे, सामान और ग्राहकों से पटे रहने वाले बाजार गुजरे जमाने की बात हो गई है। आखिर ऐसा क्यों हुआ ? इसका हमारे शहर पर कितना असर पड़ा है ? दैनिक भास्कर ने इन्हीं सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश की है। महज पांच साल का वक्त। तब हर हफ्ते 500 करोड़ का कारोबार होता था..और अब यही व्यापार 250 करोड़ रुपए प्रति हफ्ते पर सिमट गया है। वजह, पुराने शहर का नए शहर के मुकाबले विकास की दौड़ में पिछड़ना है। यहां तक पहुंचने में आने वाली दिक्कतों के चलते लोग कतराने लगे हैं, तो कारोबारियों ने पुराने शहर से अपने व्यापार को समेटकर नए शहर में अपने ठिकाने बना लिए हैं। अपनी गुणवत्ता व कम कीमतों के लिए ख्यात रहे चौक बाजार में कपड़ा व्यवसायी इन दिनों बैरागढ़ और अन्य उपनगरों में अपना कारोबार शिफ्ट कर रहे हैं। कपड़ा व्यवसायी रमेश अग्रवाल बताते हैं कि वर्ष 2000 के बाद से ही यहां का कारोबार कम होने लगा था। इसकी वजह श्री अग्रवाल ने अपने ग्राहकों से पूछी तो उन्होंने बताया कि बैरागढ़ भले ही दूर है, लेकिन मार्केट विकसित है। यहां पार्किग की दिक्कतें कम हैं। वर्ष 2005 तक आते-आते श्री अग्रवाल के बिजनेस में 10 फीसदी की गिरावट आ गई। इसके चलते अब उन्होंने बैरागढ़ में अपनी नई दुकान खोल ली है। चौक बाजार में दुकान आज भी है, लेकिन यहां से एक महीने में महज 6 लाख का बिजनेस होता है, तो बैरागढ़ में दस लाख रुपए का। वहीं, सर्राफा के लिए चौक बाजार में अब भी ग्राहकों की चहलकदमी बरकरार है, लेकिन भोपाल सर्राफा एसोसिएशन के अध्यक्ष मुकेश गोयल के मुताबिक पुराने शहर के अधिकांश सर्राफा व्यापारियों ने न्यू मार्केट व अन्य स्थानों पर भी दुकानें खोल ली हैं। पुराने शहर में आज भी व्यापार नहीं बढ़ा है, जबकि नए शहर में चार साल पहले खोली गईं दुकानों में कारोबार चार गुना तक बढ़ गया है। हालांकि इसके पीछे नए शहर की आधुनिकता है। भोपाल व्यापारी महासंघ के महासचिव अनुपम अग्रवाल बताते हैं कि राज्य शासन ने हमेशा पुराने शहर की उपेक्षा की है। ट्रैफिक के कारण यहां लोग आने से कतराते हैं। इसलिए व्यापार खासकर किराना नए शहर में शिफ्ट हो रहा है। ठीक यही हाल अन्य व्यवसायों की भी है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

और पढ़ें