• Hindi News
  • Indore School Buses Violates Supreme Court's Norms

सावधान इंदौर: इन ख़तरनाक बसों से स्कूल जाते हैं आपके बच्चे

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

इंदौर।


शैक्षणिक संस्थानों में चलाई जा रही बसों में सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों को तार-तार किया जा रहा है। लगातार 'खामियों' के साथ बसें चल रही हैं। बुधवार को परिवहन विभाग के अलग-अलग दलों ने चार संस्थानों की 114 बसों की जांच की। इनमें से 78 में कमियां पाई गई।


कार्रवाई के दौरान परिवहन विभाग के दल ने सुबह इंदौर पब्लिक स्कूल की जांच की। यहां दूसरे गेट पर सीट लगी होने के कारण छह बसों के फिटनेस सर्टिफिकेट जब्त किए गए। साथ ही कई अन्य बसों में भी खामियां मिली। इसके बाद एमरल्ड हाइट्स की बसों की जांच में सभी पर काले कांच मिले। इन्हें हटाने या अथोराइजेशन लेटर दिखाने के लिए स्कूल को 15 दिन का समय देते हुए नोटिस थमाया गया। वहीं तीन बसें 20 साल से ज्यादा पुरानी पाए जाने पर इनके संचालन पर रोक लगाने के निर्देश दिए।

इसके अलावा बसों में कई अन्य खामियां भी मिलीं। मेडिकैप्स कॉलेज में बसों में दूसरे गेट पर सीट लगी थीं। साथ ही इनमें फस्र्ट एड बॉक्स, अग्निशमन यंत्र और स्पीड गवर्नर भी नहीं पाए जाने पर इनके फिटनेस सर्टिफिकेट निरस्त किए गए हैं। इसके अलावा दो ऐसी बसें भी मिली, जो चार माह पुरानी थीं। इनका रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया गया था। परमिट मिलने तक इनके संचालन पर भी रोक लगाई गई। दूसरे दल ने दिल्ली पब्लिक स्कूल की बसों की जांच की। इसमें कई बसों में दूसरे गेट पर कुर्सी लगी थी, जिसके चलते फिटनेस जब्त किए गए। साथ ही 14 पर काले कांच थे। इन सभी बसों को नोटिस दिए गए हैं।