पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Rajasthan, Haryana, Uttar Pradesh Girls Are Being Sold

रिपोर्ट में खुलासा: राजस्थान, हरियाणा में बेची जा रही हैं प्रदेश की लड़कियां

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल. राजधानी समेत प्रदेश के अन्य जिलों से गुम हुई नाबालिग और वयस्क लड़कियों को राजस्थान और हरियाणा में बेचा जा रहा है। लोकल लोगों की मदद से इन लड़कियों को पहले शादी का झांसा दिया जाता है, फिर उनसे देह-व्यापार करवाया जाता है। पीएचक्यू की एक रिपोर्ट में यह सनसनीखेज खुलासा हुआ है। इसके बाद पीएचक्यू से सभी जिला पुलिस अधीक्षकों को आरोपियों की धरपकड़ समेत ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाए जाने के निर्देश दिए गए हैं।
जून-2012 में पीएचक्यू की महिला सेल के गठन से लेकर अब तक प्रदेश भर में दर्ज ऐसे अपराधों के विश्लेषण के बाद यह रिपोर्ट तैयार हुई है। इसमें सामने आया कि दो साल और चार महीने में प्रदेश के थानों में लैंगिक अपराध और देह-व्यापार से जुड़े सौ से ज्यादा अपराध दर्ज किए गए हैं। जबकि जून 2002 से 2012 के बीच ऐसे महज 40 मामले दर्ज किए गए थे।
भोपाल में देह-व्यापार और नाबालिग लड़कियों के साथ लैंगिक अपराध को अंजाम दिया जाता है। वहीं, मंदसौर और रतलाम में इस तरह की दस से ज्यादा वारदातें हो चुकी हैं। आंकड़े बताते हैं कि इनमें से अस्सी फीसदी मामलों में लड़कियों को जबरन शादी के बाद उन्हें देह-व्यापार के लिए राजस्थान और हरियाणा में बेच दिया जाता है।
वारदात का तरीका यह भी

पुलिस का कहना है कि इन मामलों में लड़की कहीं की होती है और उसे बेच किसी और जिले में दिया जाता है। साथ ही आरोपी भी अपने गृहजिले में वारदात को अंजाम नहीं देते हैं। इसके चलते पुलिस के लिए पीड़िता सहित आरोपी को तलाशना आसान नहीं रह जाता है। पुलिस के मुताबिक इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने के लिए कुछ लोग छोटे-छोटे गिरोहों में बंटकर काम कर रहे हैं।
16 जिलों में सेल का गठन

यह रिपोर्ट मिलने के बाद पीएचक्यू ने सभी जिलों में ट्रेनिंग प्रोग्राम करने शुरू कर दिए हैं। इसमें पुलिसकर्मियों को ऐसे मामलों की जांच एवं लोगों को जागरूक करने का तरीका बताया जा रहा है। प्रदेश के 16 जिलों में एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल का गठन कर दिया गया है। ऐसी आठ सेल अभी और खोली जानी प्रस्तावित हैं। हर जिले के एएसपी को इसका नोडल ऑफिसर नियुक्त किया गया है।
बेच दिया था राजधानी की किशोरी को

बीती सात अक्टूबर को राजधानी की अदालत ने किशोरी को बेचने की कोशिश करने वाली दो महिलाओं व उनके एक साथी को दस-दस साल की कैद और 75-75 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। किशोरी के परिचित अनस खान ने नौकरी दिलाने का लालच देकर उसका सौदा मुंबई की कॉल गर्ल रुबीना यास्मीन से ढाई लाख रुपए में कर दिया था। "प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंसेज एक्ट-2012' के तहत की गई यह प्रदेश पुलिस की पहली कार्रवाई थी।
ये संगठित अपराध है, जिसे गंभीरता से लिया जा रहा है। सभी जिला पुलिस अधीक्षकों को ऐसे मामलों में आईपीसी की धारा 370 के तहत प्रकरण दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं। हम ऐसे अपराधों पर अंकुश लगाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं।'
- अरुणा मोहन राव, एडीजी, महिला सेल