• Hindi News
  • National
  • बीना, बरखेड़ा सहित आधा दर्जन से ज्यादा स्थानों पर मई से लगेगा सिस्टम, छतरपुर टीकमगढ़ में भी होगी शुर

बीना, बरखेड़ा सहित आधा दर्जन से ज्यादा स्थानों पर मई से लगेगा सिस्टम, छतरपुर-टीकमगढ़ में भी होगी शुरुआत

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रेलवे ट्रैक टूटते ही प्रोटेक्ट सिस्टम से मिलेगी जानकारी
रेलवे ट्रैक कहीं से टूट गया है या उससे छेड़छाड़ की गई है तो उसकी जानकारी रेलवे को तत्काल मिल सकेगी। रिसर्च डिजाइन एंड स्टैंडर्ड ऑर्गेनाइजेशन (आरडीएसओ) ने रेलवे ट्रैक की निगरानी के लिए ऑनलाइन सिस्टम बनाया है।

चिप के रूप में विकसित किए गए इस ट्रैक प्रोटेक्ट सिस्टम को संवेदनशील क्षेत्रों में लगा दिया जाएगा। इसे सीधे वेबसाइट से लिंक किया जाएगा। रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक भोपाल मंडल के बीना, बरखेड़ा सहित आधा दर्जन से ज्यादा स्थानों पर इस सिस्टम को मई से लगा दिया जाएगा। पश्चिम-मध्य रेलवे केे मुख्य प्रवक्ता सुरेंद्र यादव ने बताया कि उत्तर-मध्य रेलवे के एक सेक्शन में ट्रैक की निगरानी के लिए सिस्टम का ट्रॉयल चल रहा है। कानपुर के पास पोखरयां में ट्रैक के साथ की गई छेड़छाड़ के बाद इंदौर-पटना एक्सप्रेस हादसे के बाद रेलवे हरकत में आया और उसने आरडीएसओ से ऑनलाइन निगरानी सिस्टम डेवलप करने को कहा। जानकारी के अनुसार इलाहाबाद रेल मंडल के बमरौली एवं भरवारी स्टेशनों के बीच 25 किमी क्षेत्र में सिस्टम का ट्रॉयल जारी है। इसे पॉयलट प्रोजेक्ट के तहत उत्तर-मध्य रेलवे के इलाहाबाद मंडल में लगाया गया, जिसके रिजल्ट काफी अच्छे मिले हैं। इसलिए अप्रैल अंत तक करीब 500 सिस्टम तैयार कर विभिन्न रेल मंडलों के संवेदनशील क्षेत्रों में उन्हें इंस्टॉल कर दिया जाएगा। यह सिस्टम तीन किमी तक नजर रख सकेगा।

देसी तकनीक होने के कारण महंगी नहीं है...
रेल सूत्रों के अनुसार यह ऑनलाइन चिप सिस्टम विदेशी तकनीक से काफी सस्ता है। करीब 3 लाख रुपए से 3 किमी क्षेत्र में इससे निगरानी की जा सकेगी। जबकि विदेशी सिस्टम इससे तीन गुना तक महंगा होने के कारण अब तक लगाया नहीं जा सका था।

सुरक्षा व्यवस्था
खबरें और भी हैं...