• Hindi News
  • हाईकोर्ट के आदेश पर निर्विरोध सरपंच बनीं धंतीबाई आदिवासी

हाईकोर्ट के आदेश पर निर्विरोध सरपंच बनीं धंतीबाई आदिवासी

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सरकार आैर कॉमर्शियल टैक्स विभाग को दें आवेदन: कोर्ट
मप्र हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ के आदेश के परिपालन में राज्य निर्वाचन आयोेग ने धंतीबाई आदिवासी को घाटीगांव ( बरई) की ग्राम पंचायत निरावली का निर्विरोध सरपंच घोषित कर दिया है। इसके बाद निर्वाचन अधिकारी घाटीगांव ने उन्हें निर्वाचित होने का प्रमाणपत्र जारी करने के साथ ही कार्यभार भी सौंप दिया। इस तरह दो माह बाद वह सरपंच बन पाई हैं। यह मामला हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ में सिंगल बेंच से होते हुए डबलबेंच तक पहुंचा था।

दिसंबर 2015 में हुए पंचायत चुनाव में धंतीबाई आदिवासी ने निरावली पंचायत से सरपंच पद के लिए नामांकन भरा था। यहीं से रूपवती प|ी रामबाबू मोघिनी आैर सरोज आदिवासी प|ी मुन्ना ने भी नामांकन पत्र दाखिल किया। जांंच के दौरान रूपवती का नामांकन फॉर्म निरस्त हो गया। जबकि सरोज आदिवासी ने अपना फॉर्म वापस ले लिया। इस पर धंतीबाई को निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिया गया। इसके बाद रूपवती आदिवासी ने हाईकोर्ट की एकलपीठ में धंतीबाई के निर्वाचन को चुनौती दी तो कोर्ट ने उन्हें चुनाव के लिए पात्र बताते हुए स्थगन आदेश दे दिया। एकलपीठ के आदेश को पंचायत सदस्य सत्तार खां ने डबल बेंच में चुनौती दी तो डीबी ने रूपवती को दिए गए स्टे पर रोक लगाते हुए धंतीबाई को निर्विरोध सरपंच घोषित करने का आदेश दिया।